अर्थ बिल्डर के निदेशक का बेटा आदित्य गोयल गिरफ्तार

मेरठ निवासी निवेशक ने दर्ज कराई थी एफआईआर

नोएडा। एक अदद आशियाने का सपना संजोये लोगों से करोड़ों की ठगी करने के आरोप में जेल में बंद अर्थ बिल्डर के निदेशक अवधेश गोयल के बेटे आदित्य गोयल को नोएडा क्राइम ब्रांच ने दिल्ली से गिरफ्तार किया है। उसके खिलाफ थाना सेक्टर-20 में मेरठ निवासी एक निवेशक ने शिकायत दर्ज कराई थी।

क्राइम ब्रांच के एसपी अशोक सिंह के मुताबिक मेरठ के बायर हर्ष थापर की थाना सेक्टर-20 में दर्ज शिकायत के आधार पर मामले की जांच की जा रही थी। जांच में पता चला कि आरोपी के लगभग 10 मुखौटा कंपनियां हैं, जिनमें निवेशकों से मिले धन को गलत तरीके से खपाया गया है। उन्होंने बताया कि अर्थ बिल्डर का नोएडा, ग्रेटर नोएडा, दिल्ली और गुरुग्राम समेत कई स्थानों पर हाउसिंग प्रोजेक्ट चल रहा था। इनमें हजारों लोगों ने निवेश किया था। लेकिन, जब उन्हें पता चला कि बिल्डर फर्जी तरीके से उनके धन को मुखौटा कंपनियों में लगा रहा है। इसके बाद मेरठ निवासी हर्ष थापर की शिकायत पर एफआईआर दर्ज की गई थी। इस मामले में कंपनी के निदेशक अवधेश, रजनीश मित्तल, अतुल गुप्ता, विकास गुप्ता दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद हैं, जबकि वाइस प्रेसिडेंट अमित सतीजा और मुखौटा कंपनी आस्था फिनकैप का निदेशक मुकुल गर्ग ग्रेटर नोएडा के लुक्सर जेल में बंद है। उन्होंने बताया कि आस्था फिनकैप का निदेशक रतन विजयवर्गीय अभी फरार है। जांच में आदित्य गोयल का नाम सामने आने के बाद उसे दिल्ली के इंद्रपुरी स्थित आवास से गिरफ्तार किया गया है।

अशोक सिंह ने बताया कि मुकुल गर्ग आस्था फिनकैप प्राइवेट लिमिटेड का डायरेक्टर था। उसे बीते वर्ष 14 नवंबर को गिरफ्तार किया गया था। मुकुल गर्ग रतन विजयवर्गीय के द्वारा 10 से भी अधिक कंपनियां बनाकर अर्थ आईकॉनिक इन्फ्राट्रक्चर्स प्राइवेट लिमिटेड और अर्थ इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड के हजारों बायर्स का धन मुखौटा कंपनीज के माध्यम से अर्थ इन्फ्राट्रक्चर के डायरेक्टरों की पत्नियों एवं रिश्तेदारों के द्वारा बनाई गई 100 से भी अधिक कंपनियों में हस्तांतरित कर दिया गया। उस पैसे के इस्तेमाल से इन्होंने अलग-अलग शहरों में कोठी, बंगले, दुकानें, फार्म हाउस और जमीन अपने नाम से खरीदी। उन्होंने बताया कि आदित्य गोयल और उसके रिश्तेदारों द्वारा 1800 गज का प्लाट गोवा में भी खरीदा गया है।

Leave A Reply