उत्पाती बंदरों को कंट्रोल करने के लिए प्रशासन ने तैनात किए लंगूर, बांके बिहारी के दर्शन करने आ रहे राष्ट्रपति

उत्पाती बंदरों को कंट्रोल करने के लिए प्रशासन ने तैनात किए लंगूर, बांके बिहारी के दर्शन करने आ रहे राष्ट्रपति

-वृंदावन क्षेत्र में आने वाले तीर्थयात्रियों की आंखों से चश्में और हाथों से बैग लेकर भाग जाते हैं बंदर

मथुरा/वृंदावन। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सोमवार, 27 जून को अपने एक दिवसीय दौरे पर वृंदावन पहुंचेंगे और वहां सबसे पहले बाँके बिहारी जी के मंदिर जाकर उनके चरणों मे माथा टेकेंगे। बांके बिहारी जी के दर्शन के दौरान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के साथ कृष्णा कुटीर की 5 महिलाएं भी साथ रहेंगी। इसके अलावा क्षेत्र के उत्पाती बंदरों पर नियंत्रण रखने के लिए प्रशासन ने लंगूरों को भी तैनात किया है ताकि राष्ट्रपति के आगमन के दौरान उनकी सुरक्षा में किसी तरह की कोई कमी न रह जाए।

राष्ट्रपति कृष्णा कुटीर में निराश्रित महिलाओं से करेंगे संवाद

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद वृंदावन कृष्णा कुटीर महिला आश्रय स्थल जाएंगे जहां निराश्रित महिलाओं से मुलाकात कर संवाद करेंगे। राष्ट्रपति निराश्रित महिलाओं से मिलने वाली सरकारी योजनाओं के बारे में भी जानकारी लेंगे साथ ही आश्रम में महिलाओं द्वारा बनाई जा रही हस्तनिर्मित वस्तुओं का भी अवलोकन करेंगे।

राष्ट्रपति की अगुवाई करेंगे राज्यपाल और सीएम

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के वृंदावन आगमन पर राष्ट्रपति की अगुवाई के लिए राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और सीएम योगी आदित्यनाथ हेलीपैड पर मौजूद रहेंगे। राज्यपाल और सीएम दोनों ही राष्ट्रपति के वृंदावन दौरे पर उनकी अगुवाई के लिए मौजूद रहेंगे और बांके बिहारी मंदिर में दर्शन और कृष्णा कुटीर में होने वाली निराश्रित विधवा महिलाओं से मुलाकात के दौरान भी साथ में मौजूद रहेंगे।

यूपी ब्रज तीर्थ बिकास परिषद की कार्ययोजना भी देखेंगे राष्ट्रपति

सीएम योगी आदित्यनाथ के निर्देशन में ब्रज में कराए जा रहे विकास कार्यों की प्रेजेंटेशन भी राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को दिखाने के लिए उत्तर प्रदेश ब्रिज तीर्थ विकास परिषद के अधिकारी जुटे हुए हैं उत्तर प्रदेश ब्रज तीर्थ विकास परिषद सीएम योगी आदित्यनाथ के निर्देशन में ब्रिज के चौमुखी विकास के लिए कार्य कर रहा है जिसमें ब्रज चौरासी कोस से लेकर मथुरा वृंदावन गोकुल बरसाना नंदगांव आदि पौराणिक स्थलों को सजाने सँवारने में लगा है। अब तक के विकास कार्य और आगे की रूपरेखा को लेकर प्रेजेंटेशन राष्ट्रपति को दिखाने की पूरी तैयारी है।

राष्ट्रपति की सुरक्षा व्यवस्था 7 जोन 20 सेक्टरों में विभाजित

राष्ट्रपति के आगमन को लेकर वृंदावन को छावनी में तब्दील कर दिया गया है। वृंदावन को 7 जोन और 20 सेक्टरों में बांटा गया है जिसमें
एसपी-7, एएसपी-12, सीओ-20, इंस्पेक्टर-40, एसआई (महिला/पुरुष)-120, मुख्य आरक्षी/आरक्षी (महिला/पुरुष)-600, पीएसी 5 कंपनी, लोकल इंटेलीजेंस, खुफिया विभाग।

सुरक्षा के चाक-चौबंद इंतजाम : ग्रोवर

एसएसपी डॉक्टर गौरव ग्रोवर ने बताया कि वृंदावन की सात जोन और 20 सेक्टरों में सुरक्षा बांटी गई है। आगरा जोन के 1350 पुलिस और पीएसी के जवान सुरक्षा में मुस्तैद रहेंगे।

राष्ट्रपति की सुरक्षा के लिए लंगूर तैनात

वृंदावन में बंदरों का आतंक बहुत है। वृंदावन के बंदर कब आपका चश्मा मोबाइल या पर्स लेकर भाग निकले आप सोच भी नहीं पाएंगे। ऐसे में सभी सुरक्षा धरी की धरी रह जाती है। ऐसे में बंदरों को वीवीआईपी मूवमेंट से दूर रखने के लिए लंगूरों की तैनाती की गई है। वृंदावन के बांके बिहारी मंदिर से लेकर कृष्ण कुटीर आश्रम तक जगह-जगह लंगूर तैनात किए जा रहे हैं जिससे बंदर दूर रहे और राष्ट्रपति के कार्यक्रम के दौरान कोई भी उत्पात ना मचाएं।

Comments are closed.