देव दीपावली पर वेगस मॉल में दिखी बनारस के गंगा किनारे की छंटा

आकर्षण का केंद्र रहा मंदिर संरचना, खूबसूरत नक्काशी, टिमटिमाते दीये और घाट का इन्सटॉलेशन

नई दिल्ली। भारत त्योहारों और उत्सवों का देश है। त्योहारों पर यहां लोग जी भरकर खरीददारी और मस्ती करते हैं। लेकिन, इस साल कोविड-19 के चलते लोगों ने घर में रहकर ही त्योहार मनाए। इस चुनौतीपूर्ण समय में आगंतुकों के चेहरे पर मुस्कान लाने के लिए वेगस मॉल ने उनके साथ ‘देव दीपावली’ मनाने का फैसला लिया, ताकि इस मुश्किल समय के बीच भी वे खुशनुमा अहसास पा सकें। कार्यक्रम के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग के सभी नियमों का पालन किया गया।

आने वालों को ऐसा एहसास देने के लिए जैसे वे गंगा के घाट पर ही हैं, वेगस मॉल में सबसे इंडोर इन्सटॉलेशन का आयोजन किया गया। मंदिर की संरचना से युक्त इस इन्सटॉलेशन को स्तंभों पर खूबसूरत नक्काशी से सजाया गया। एक कृत्रिम जल निकाय बनाया गया, जिनमें दीये तैर रहे थे। अजय भाई के प्रेरक और आध्यात्मिक संगीत से आगंतुक मंत्रमुग्ध हो गए।

देव दीपावली, जिसका शाब्दिक अर्थ है ‘देवों की दीवाली’ या ‘देवों का रोशनी का त्योहार’ बनारस में एक विशाल पर्व है। माना जाता है कि इस अवसर पर देवता धरती पर उतरकर गंगा में स्नान करते हैं। देवताओं का स्वागत करने के लिए बनारस में नदी के घाटों को दीयों से सजाया जाता है। इस अवसर पर वेगस मॉल के डायरेक्टर हर्ष वी बंसल ने कहा, ‘बनारस के घाटों पर देव दीपावली का आयोजन मंत्रमुग्ध करने वाला होता है। बनारस में इस उत्सव का आयोजन ‘देवताओं के रोशनी के त्योहार’ के रूप में किया जाता है। हम यह सुनिश्चित करना चाहते थे कि वेगस मॉल हमारे आगंतुकों को अनूठा अनुभव प्रदान करे। इसीलिए उन्हें उत्कृष्ट अनुभव प्रदान करने के लिए रोचक संरचना की गई है।

मॉल के असिस्टेन्ट वाईस प्रेसिडेन्ट रविन्दर चौधरी ने कहा कि ‘इस साल वेगस मॉल में हम भारत के सबसे प्राचीन और पवित्र शहर की भव्यता लेकर आए हैं। बनारस को इसकी संस्कृति और कला के लिए जाना जाता है और इस दीवाली हम यही अनुभव अपने आगंतुकों को प्रदान करना चाहते थे। मॉल के ऑरा को नई उंचाइयों तक ले जाते हुए उन्हें अनूठी सकारात्मकता का अनुभव प्रदान करना इस पहल का मुख्य उद्देश्य था। इस साल लोग वेगस मॉल में देव दीपावली के इस खूबसूरत मानवनिर्मित संरचना का लुत्फ उठा सकेंगे।

Leave A Reply