एमराल्ड के दोनों टावरों के ध्वस्तीकरण से पहले कंप्यूटराइज मॉडल होगा तैयार

इमारत में लगे कंस्ट्रक्शन वेट (भार) का अध्ययन किया जाएगा

नोएडा: सुपरटेक एमराल्ड के दोनों टावरों के ध्वस्तीकरण से पहले कंप्यूटराइज मॉडल तैयार किया जाएगा। इमारत में लगे कंस्ट्रक्शन वेट (भार) का अध्ययन किया जाएगा। इसके बाद एक एनिमेटड स्ट्रार तैयार कर उसका प्रजेंटेशन नोएडा प्राधिकरण में किया जाएगा। इसके लिए तीन सदस्य की एक कमेटी गठित की गई है। दो से तीन दिन में फाइनल रिपोर्ट प्राधिकरण को सौंपी जाएगी। इसके बाद शार्ट टर्म टेंडर जारी कर इमारत को ध्वस्त किया जाएगा। इसमे सबसे महत्वपूर्ण अन्य इमारतों की दूरी होगी।
सुप्रीम कोर्ट ने दोनों टावर सियान और एपेक्स को ध्वस्त करने के आदेश 31 अगस्त 2021 को दिए। इसके लिए प्राधिकरण को 30 नवम्बर का समय दिया गया है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर ही प्राधिकरण सीबीआरआई की मदद ले रहा है। मंगलवार को दोनों टावरों को गिराने के लिए एक समिति गठित की। इस समिति में एनबीसीसी के एक्स सीएमडी, इंडियन डिमोलिशन एसोसिएशन के सदस्य और सीबीआरआई की टीम शामिल होंगे। प्राधिकरण ने बताया कि यह टीम एक एनिमेटड फ्रेम के जरिए यह दिखाएगी कि दोनों इमारतों को कैसे गिराया जाए। यह भी अध्ययन किया जाएगा कि इमारत को गिराने में कितना एक्सप्लोसिव लगाया जाए। आस पास की इमारतों को कोई नुकसान तो नहीं होगा इसका विशेष ध्यान दिया जाएगा। प्रजेंटेशन के बाद यह स्थिति बिल्कुल साफ हो जाएगी। प्राधिकरण का मत है इमारत गिराने में किसी भी प्रकार की गलती की कोई गुंजाइश न रहे।

Comments are closed.