अपनादल नेता से अभद्र व्यवहार करने वाले चौकी इंचार्ज लाइन हाजिर

नाराज अपना दल कार्यकर्ताओं ने थाने का घेराव कर किया था प्रदर्शन

इन्द्रजीत सिंह मौर्य

जौनपुर: जिले के नेवड़िया थाने के चौकी प्रभारी एवं अपना दल एस नेता के साथ अभद्र भाषा के साथ गाली गलौज करने के मामले में पुलिस अधीक्षक अजय साहनी ने शुक्रवार की देर रात लाइन हाजिर कर दिया है।
यह जानकारी अपना दल एस के जिलाध्यक्ष लाल बहादुर पटेल ने थानाध्यक्ष नेवढ़िया विश्वनाथ प्रताप सिंह के हवाले से दिया है।

दरअसल भाऊपुर चौकी प्रभारी त्रिवेणी सिंह शुक्रवार को एक खनन मामले में पकड़े गए ट्रैक्टर को छुड़ाने गए अपना दल एस के महासचिव व जिला पंचायत सदस्य ललई सरोज के साथ फोन लाइन पर अभद्र भाषा का प्रयोग करते हुए गाली गलौज हुआ था। जिसका ऑडियो सोशल मीडिया पर तेजी के साथ वायरल हुआ।

शुक्रवार की देर शाम अपना दल एस के जिलाध्यक्ष लाल बहादुर पटेल के नेतृत्व में सैकड़ों अपना दल कार्यकर्ता एवं जिला पंचायत सदस्य ने थाने का घेराव कर थानाध्यक्ष विश्वनाथ प्रताप सिंह से मामले की जानकारी देते ही 24 घंटे के अंदर चौकी प्रभारी त्रिवेणी सिंह के ऊपर कार्रवाई करने की मांग किया था।

बताते हैं कि सोशल मीडिया के जरिए गाली गलौज काऑडियो की जानकारी पुलिस अधीक्षक अजय कुमार साहनी को हुआ तो उन्होंने शुक्रवार की देर रात ही चौकी प्रभारी त्रिवेणी सिंह को लाइन हाजिर कर दिया है।

एसपी की फटकार के बाद भी नहीं सुधर रहा पुलिस का रवैया
चौकी प्रभारी त्रिवेणी सिंह के लाइन हाजिर होने से अपना दल एस कार्यकर्ता अपनी जीत मान रहे हैं।
वही पुलिस नेताओं द्वारा मनोबल गिराने की बात कह रहे है।
अद नेता ललई ने कहा मुकदमा दर्ज नहीं हुआ तो करेंगे आत्महत्या,

अपना दल एस के प्रदेश महासचिव एवं जिला पंचायत सदस्य जौनपुर ललई सरोज ने कहा कि पुलिस विभाग में लाइन हाजिर होने का कोई मतलब ही नहीं है। मुझे अपमानित किया गया है जाति सूचक शब्दों से गाली दिया गया। जब तक हमारा मुकदमा चौकी प्रभारी त्रिवेणी सिंह के खिलाफ नहीं दर्ज हो जाता तब तक हम शांत नहीं बैठेंगे ।
चाहे लखनऊ, दिल्ली एक करना पड़े। उन्होंने धमकी दिया कि अगर हमारा मुकदमा नहीं लिखा जाता है तो हम एसपी ऑफिस के सामने आत्महत्या करने के लिए मजबूर होंगे।
जिले में पुलिस की कार्यप्रणाली पर पिछले दिनों वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय कुमार साहनी ने काफी हिदायत दिया था, बावजूद इसके कुछ चौकी इंचार्ज और पुलिसकर्मी ऐसे हैं जो अपनी कार्यप्रणाली में सुधार नहीं ला रहे हैं।

Comments are closed.