प्राधिकरण ने सेक्टर-60 के दो प्रतिष्ठानों पर लगाया 50-50 हजार का जुर्माना

अथॉरिटी के अधिकारियों ने किया कूड़ा निस्तारण व्यवस्था का औचक निरीक्षण

नोएडा। नोएडा प्राधिकरण की मुख्य कार्यपालक अधिकारी ऋतु माहेश्वरी ने कहा कि नियमों के अंतर्गत बल्क वेस्ट जनरेटर को अपने परिसर के अंदर ही गीले और सूखे कूड़े को अलग करने के बाद गीले कूड़े की प्रोसेसिंग करना अनिवार्य है। इस संदर्भ में लगातार जागरूकता अभियान चलाए जा रहे हैं। प्राधिकरण के अधिकारी विभिन्न परिसरों में जाकर चेकिंग भी कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि सेक्टर-60 में निरीक्षण के दौरान नियमों को तोड़ने वाले कई प्रतिष्ठानों पर अर्थदंड लगाया गया है।

मुख्य कार्यपालक अधिकारी ऋतु माहेश्वरी ने बताया कि विशेष कार्याधिकारी  इंदु प्रकाश सिंह की अध्यक्षता में जन स्वास्थ्य विभाग के सहायक परियोजना अभियंता गौरव बंसल और प्रभारी सेनेटरी इंस्पेक्टर जगपाल सिंह सेक्टर-60 में शुक्रवार को कई प्रतिष्ठानों में कूड़े के निस्तारण का निरीक्षण किया। इस दौरान नियमों का उल्लंघन करने वाले संस्थानों पर जुर्माने की कार्रवाई की गई।

ऋतु माहेश्वरी ने बताया कि सेक्टर-60 के ए-37 स्थित मेसर्स आई एनरजायर में सूखा एवं गीला कूड़ा मिक्स पाया गया। वहां गीले कूड़े के निस्तारण या प्रोसेसिंग का कोई प्रावधान नहीं किया गया था। साथ ही प्रतिष्ठान की कैंटीन में भी काफी गंदगी फैली हुई थी। इसलिए प्रतिष्ठान पर 50 हजार रुपये का जुर्माना लगाया गया है। इसके अलावा सेक्टर-60 के ए-34, 35 स्थित मेसर्स धर्मपाल प्रेमचंद लिमिटेड में भी सूखा एवं गीला कूड़ा मिक्स पाया गया। वहां भी गीले कूड़े के निस्तारण अथवा प्रोसेसिंग का कोई प्रावधान नहीं पाया गया। इसलिए इस प्रतिष्ठान पर भी 50 हजार रुपये का जुर्माना लगाया गया है।

Leave A Reply