सीबीएसई 10वीं में देश में 13 टॉपरों में तीन नोएडा के

बाल भारती, मयूर और लोटस वैली के होनहारों ने लहराया कामयाबी का परचम

नोएडा। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई बोर्ड) 10वीं का रिजल्ट घोषित कर दिया है। इस साल 18 लाख छात्रों में से 91,1 फीसदी बच्चों ने परीक्षा में सफलता हासिल की है। रिजल्ट में इस साल 13 बच्चों ने टॉप किया है, जिन्हें 500 में से 499 अंक मिले हैं। ंइनमें तीन नोएडा और तीन गाजियाबाद के हैं।

इस वर्ष सीबीएसई 10वीं क्लास में सिद्धांत पेनगोरिया ( लोटस वैली इंटरनेशनल स्कूल, नोएडा), दिव्यांश वाधवा (बाल भारती पब्लिक स्कूल, नोएडा), अंकुर मिश्रा (एसएजे स्कूल,गाजियाबाद), ईश मदन (छबील दास पब्लिक स्कूल, गाजियाबाद), अपूर्वा जैन (उत्तम स्कूल फॉर गर्ल्स, गाजियाबाद) और शिवानी लाथ (मयूर स्कूल, नोएडा) टॉपर्स की लिस्ट में शामिल हैं। इन सभी बच्चों को 500 में से 499 अंक मिले हैं।

इनके अलावा योगेश कुमार गुप्ता, वत्सल वार्ष्णेय, मान्या, आर्यन झा, तरु जैन, भावना एन. शिवदास और दिवजोत कौर जग्गी ने भी टॉपर्स की लिस्ट में जगह बनाई है। टॉपर्स में 7 लड़के और 6 लड़कियां शामिल हैं। ऐसा पहली बार हुआ ह,ै जब सीबीएसई में टॉप 3 में 97 स्टूडेंट्स रहे हैं। पिछले साल केवल 4 बच्चों को 499 अंक प्राप्त हुए थे।

नोएडा के सेक्टर-21 स्थित बाल भारती पब्लिक स्कूल के टॉपर दिव्यांश वाधवा की टीचर ने उसकी सराहना की और कहा कि वह बहुत होनहार है। दिव्यांश सिर्फ पढ़ाई में ही नहीं, बल्कि हर एक्टिविटी में अवल दर्जे का छात्र है। स्कूल की प्रिंसिपल ने बताया कि उन्हें भरोसा था कि दिव्यांश इस बार टॉप करेगा। उन्होंने दिव्यांश को एक सभ्य और जिम्मेदार छात्र बताते हुए उसे बधाई दी है।

लोटस वैली इंटरनेशनल स्कूल के छात्र सिद्धार्थ पैंगोरिया अपनी कामयाबी पर बेहद खुश हैं। उन्होंने बताया कि यह स्कोर उनके लिए बिल्कुल अप्रत्याशित है। उन्होंने केवल मेहनत की थी। उन्हें भरोसा था कि अच्छे मार्क्स आएंगे, लेकिन टॉपर्स की लिस्ट में उनका नाम शामिल होगा, ऐसा नहीं सोचा था। सिद्धार्थ की मां ने बेटे के सभी टीचर्स का आभार प्रकट किया। उन्होंने अपने बच्चे की सफलता में उनका महत्त्वपूर्ण योगदान बताया।

नोएडा के मयूर स्कूल की शिवानी अपनी कामयाबी पर फूले नहीं समा रही हैं। शिवानी कहती हैं कि वह अपने अंक से बहुत खुश हैं। उन्हें यह उपलब्धि अपने टीचर्स और माता-पिता के आशीर्वाद से हासिल हुई है। शिवानी की मां भी बेटी की सफलता से उत्साहित हैं। वह कहती हैं कि परीक्षा के वक़्त वह शिवानी के साथ नहीं थीं। फिर भी शिवानी ने टॉपर्स में खुद को शामिल किया है। यह अपने आप में ही बहुत बड़ी बात है।

Leave A Reply