चुगलखोर की मजार पर जाएं भाजपा के नेता : अखिलेश

भारत को पाकिस्तान से अधिक चीन से खतरा

इटावा। समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेताओं पर तंज कसते हुए कहा कि उन्हें इटावा में चुगलखोर की मजार को देखने जाना चाहिये। यह बात उन्होंने सैफई में संवाददाताओं से बातचीत के दौरान कही।

अखिलेश यादव ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के अयोध्या में रामलला का दर्शन न करने के बारे में सवाल पूछे गए सवाल पर कहा कि भाजपा के लोग चुगलखोर की मजार देखने नहीं आये। न ही उन्होंने टैक्सी टेंपल या हनुमान मंदिर में दर्शन किया। उन्होंने कहा कि भाजपा के लोग बेवजह के मुद्दे उछालने में लगे हुए हैं। जबकि मुख्य मुद्दों से लोगों का बन बदलने की भाजपाई की कोशिश है, ताकि भाजपा की खामियां लोगों के सामने ना आ सके। 

अखिलेश यादव ने जिस चुगलखोर की मजार का जिक्र किया, वह दुनियाभर में अपने अनोखे अंदाज के लिये मशहूर है। इटावा मुख्यालय से करीब 4 किलोमीटर की दूरी पर दतावली गांव के पास बरेली ग्वालियर मार्ग पर स्थित चुगलखोर की मजार ऐतिहासिक और वास्तुकला की दृष्टि से भले ही महत्वहीन समझी जाये, लेकिन लोक परंपराओं में वह एक ऐसी अद्भुत मिसाल है, जो शायद और कहीं देखने को नहीं मिलती है। लोक परंपरा के अनुसार यहां से गुजरने वाला हर मुसाफिर इस मजार पर पांच जूते चप्पल मारता है। ऐसे करने से उसकी यात्रा सफल होती है। अगर बात करें वर्ष-2012 के विधानसभा चुनाव की, तो कई प्रत्याशियों ने इस मजार पर जूते या चप्पल मारने के टोटके को अपना करके इस मजार के महत्व को बढ़ाया था।

अखिलेश यादव ने कन्नौज जाने से पहले अपनी कोठी पर पहुंचे कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि अब कोई ऐसी नई चीज नहीं है, जो मंच से बतानी है। अब जनता को सच्चाई पता हो चुकी है। बीजेपी के लोग साजिश रचने वाले हैं। इनसे सावधान रहने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि मोदी 2000 रुपये किसानों के खाते में जो भेज रहे हैं, वह किसानों की ही खाद की बोरी से कटौती की गई है। भारतीय जनता पार्टी पहली ऐसी सरकार है, जो वादे के खिलाफ कार्य करती है। भाजपा ने तमाम वादे किए थे। दो करोड़ नौकरी देंगे। 15 लाख रुपये खाते में भेजेंगे। आय दोगुनी करेंगे। लेकिन, कोई भी वादा अब तक पूरा नहीं किया।

अखिलेश ने अपनी सरकार में आगरा लखनऊ एक्सप्रेस वे के पास मंडियां बनाने का कार्य चल रहा था, जिससे किसानों को एक बड़ा फायदा होने वाला था। लेकिन, इस सरकार ने उसका भी कार्य नहीं करने दिया। जब तक सरकार रिस्क नहीं लेती है, तब तक किसानों का भला नहीं होना है। सरकार जितना अधिक खर्च करती है उतना ही अधिक सरकार को फायदा होता है, पर यह लोग खर्च के नाम पर तो कुछ कर नहीं रहे हैं और जनता के पैसे से ही अपना फायदा चाह रहे हैं।

उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि देश में मौजूदा समय में चौकीदारी का मुद्दा चल रहा है। मैं समझता हूं राजनीति में यह परंपरा नहीं पड़नी चाहिए। हमने उनको पद से हटाने का संकल्प लिया है, इसीलिए हमने बसपा से गठबंधन किया है। उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि कोई भी गलत भाषा का प्रयोग नहीं करेगा। गठबंधन दलों का वोट बहुत है, जिसे जिम्मेदारी के साथ मतदान में प्रयोग किया जाए और इस चुनाव में अगर सफल नहीं हो पाए तो 2022 में भी पीछे चले जाएंगे। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान से इतना खतरा नहीं है, जितना बताया जा रहा है। हकीकत में पाकिस्तान के बजाय चीन से भारत को सबसे अधिक खतरा है। अगर भारत और पाकिस्तान के बीच युद्व के हालात बनते हैं तो फिर पहले चीन से मुकाबला करना पड़ेगा। क्योंकि चीन ने पाकिस्तान में बहुत सारा पैसा लगाया हुआ है।

Leave A Reply