सिद्धू की हुंकार, अमेठी से राहुल हारे तो राजनीति छोड़ दूंगा

बीजेपी के वफादारों को ही राष्ट्रवादी माना जाता है : पूर्व क्रिकेटर

रायबरेली। अपने बयानों के लिए हमेशा ही सुर्खियों में रहने वाले कांग्रेस के नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने एक बार फिर सियासी कुरुक्षेत्र में हुंकार भरी है। उन्होंने कहा कि ऐसी कोई ताकत नहीं है, जो अमेठी से राहुल गांधी को हरा दे। अगर ऐसा हुआ तो वह राजनीति छोड़ देंगे। उन्होंने कहा कि लोगों को यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी से राष्ट्रवाद सीखना चाहिए।

बीजेपी से कांग्रेस में आए नवजोत सिंह सिद्धू पंजाब की कांग्रेस सरकार में मंत्री हैं। उन्होंने बीजेपी के इस आरोप को सिरे से खारिज कर दिया कि 70 वर्षों में कोई आर्थिक विकास नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि इस दौरान देश ने सुई से लेकर विमान तक सब कुछ बनाया है। भाजपा पर निशाना साधते हुए सिद्ध ने कहा कि मौजूदा समय में बीजेपी के वफादारों को ही राष्ट्रवादी माना जाता है। जो लोग इसे छोड़ देते हैं, उन्हें राष्ट्र विरोधी करार दिया जाता है।

पूर्व क्रिकेटर ने कहा कि राफेल सौदे के विवाद से आम चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हार होगी। रायबरेली संसदीय क्षेत्र में कांग्रेस उम्मीदवार सोनिया गांधी के लिए प्रचार करने आए सिद्धू ने रिफॉर्म क्लब मैदान में आयोजित जनसभा में क्रिकेट की भाषा में कहा, अगर सोनिया गांधी को दो लाख के अंतर से जिताया तो यह दुक्की की तरह की शॉट होगी और चार लाख के मार्जिन से जीत चौका होगा, लेकिन पांच लाख से अधिक की जीत सीधा छक्का होगा और रायबरेली की जनता को यह शॉट जरूर खेलना है।

बीजेपी प्रत्याशी दिनेश प्रताप सिंह को निशाने पर लेते हुए कहा कि यह जब सोनिया गांधी का नहीं हुआ तो रायबरेली की जनता का क्या होगा। सिद्धू झूठ नहीं बोलता और बीजेपी का काम झूठ और तानाशाही है। बात करोड़ों की, दुकान पकौड़ों की और संगत भगोड़ों की। सोनिया गांधी की तारीफ करते हुए कहा कि ये सोनिया गांधी थीं, जिन्होंने 10 साल खुद पीछे रहीं और काबिल लोगों को लेकर आईं। देश तरक्की की कगार पर आकर खड़ा हुआ।

Leave A Reply