सी-टीईटी परीक्षा दिलाने पहुंचे सॉल्वर गैंग का पर्दाफाश, 18 गिरफ्तार

पिछले करीब तीन साल से 4 से 5 लाख रुपए लेकर अभ्यर्थियों को परीक्षा दिलवा रहे हैं। 

अभिषेक ब्याहुत 

नोएडा: थाना सेक्टर 58 पुलिस ने केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा (सी-टीईटी) परीक्षा के लिए अभ्यर्थियों को लेकर पहुंचे सॉल्वर गैंग का पर्दाफाश किया है। पुलिस ने पांच महिलाओं समेत 18 लोगों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों में एक दिल्ली का एएसआई और सीएआईएसएफ का सिपाही है। जबकि गैंग का सरगना अधिवक्ता समेत तीन लोग फरार हैं। पुलिस का दावा है कि आरोपी गैंग का सरगना सीटेट का परीक्षा पत्र अपनी पेन ड्राइव में लेकर पहुंचा था। जो पुलिस के आने की भनक लगते ही वहां से भाग निकला। यह लोग पिछले करीब तीन साल से 4 से 5 लाख रुपए लेकर अभ्यर्थियों को परीक्षा दिलवा रहे हैं।
नोएडा के डीसीपी राजेस एस ने बताया कि वीरवार की सुबह थाना सेक्टर-58 पुलिस ने सेक्टर 60 ओयो होटल से 5 महिलाओं समेत 18 लोगों को गिरफ्तार किया है। मौके से गैंग का सरगना समेत तीन लोग फरार होने में कामयाब रहे। आरोपी महिलाएं वीरवार को आयोजित की गई केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा (सी-टीईटी) मे भाग लेने वाले असली अभ्यर्थियों की जगह नकली अभ्यर्थियों बनकर परीक्षा की तैयारी करने आई थी। महिलाओं को गुरुग्राम, मुरादाबाद, सोनीपत और मथुरा के सेंटरों पर परीक्षा देने जाना था। लेकिन उन्हें एक दिन पहले सेक्टर 60 स्थित होटल में परीक्षा की तैयारी कराने के लिए रुकवाया गया था। यहां गैंग का सरगना सीटेट का परीक्षा पत्र अपनी पेन ड्राइव में लेकर पहुंचा था। जो पुलिस के आने की भनक लगते ही वहां से भाग निकला। आरोपियों की पहचान दिल्ली के न्यू ललितपुर थाना जगतपुरी निवासी राजेश(साल्वर), राजस्थान के झुनझुन नवासी भवानी शर्मा(सीआरपीएफ का सेवानिवृत सिपाही) हरियाणा के सोनीपत निवासी विकास(मीडिएटर-दिल्ली पुलिस एएसआई-2006 बैच ), राजस्थान भरतपुर निवासी शिवराम सिंह (मीडिएटर- सीआरपीएफ 2007 बैच), हाथरस निवासी रवि (मीडिएटर), पलवल निवासी राम पेपर वाले लोगों की तलाश करने का काम करता था। संभल निवासी सुनी (मीडिएटर), संभल निवासी अनिल कुमार (मीडिएटर),दिल्ली के पालम निवासी अमित (मीडिएटर), गुरुग्राम निवासी ब्रजेश (मीडिएटर), हाथरस निवासी प्रमोद कुमार (मीडिएटर) व हाथरस निवासी गजेंद्र सिंह (मीडिएटर) का काम करते थे।

Comments are closed.