छात्रों ने कर्नल राजेश गुप्ता से किया संवाद,सेना में भर्ती के बाबत लिए टिप्स

-दिल्ली सरकार की अनूठी पहल के तहत मोटिवेशनल स्पीकर श्रृंखला का चौथा सत्र सोमवार को किया गया आयोजित

नई दिल्ली। केजरीवाल सरकार के स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चे अब देशभक्त सैनिक बनेंगे। दिल्ली के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों के लिए दिल्ली सरकार द्वारा शुरू की गई अनूठी पहल मोटिवेशनल स्पीकर सीरीज में दिल्ली सरकार सेना में अधिकारी बनने व यूपीएससी का सपना देखने वाले बच्चों को एक ऐसा मंच प्रदान करती है, जहाँ युवा सैन्य अधिकारी, आई.ए.एस , आई.पी.एस अधिकारी सीधे संवाद के जरिए बच्चों के साथ पढ़ाई और तैयारी से जुड़े अपने अनुभव शेयर करते है। इससे विद्यार्थियों में इन परीक्षाओं को लेकर समझ पैदा होती है तथा स्टडी प्लान बनाने में मदद मिलती है ।

इस श्रृंखला के चौथे सत्र में सोमवार को दिल्ली सरकार के स्कूल के पूर्व छात्र व भारतीय सेना में कर्नल राजेश गुप्ता ने स्टूडेंट के साथ तैयारी संबंधी अपने अनुभव शेयर किए। एसबीवी शक्ति नगर न.1 विद्यालय में आयोजित इस कार्यक्रम में विभिन्न विद्यालयों के लगभग 75 बच्चों के साथ प्रत्यक्ष संवाद के अलावा इस कार्यक्रम में लगभग 13000 बच्चे यूट्यूब लाइव के माध्यम से भी जुड़े।

इस अवसर पर कर्नल राजेश गुप्ता ने स्कूली दिनों से ही सेना के प्रति अपने जुनून को साझा करते हुए कहा कि “ मुझे सेना की वर्दी से प्यार था और डेस्क जॉब नहीं करनी थी। मेरे ये दोनों सपने भारतीय सेना में शामिल होकर पूरे हुए।” कर्नल गुप्ता ने बताया कि 10वीं की परीक्षा पास करने के बाद से ही उन्होंने तय कर लिया था कि उन्हें एनडीए के माध्यम से भारतीय सेना में शामिल होना है। उन्होंने कहा कि जिन्दगी में कुछ भी आसान नहीं है लेकिन यदि आप ठान ले तो कुछ भी पाना मुश्किल नहीं है। केवल जरुरत है जुनून और कड़ी मेहनत करने की इसलिए हमेशा बड़े सपने देखे और अपने लिए बड़े लक्ष्य निर्धारित करे। अपने डर पर काबू रखे और अपनी क्षमताओं का बेहतरीन प्रयोग करे।

कर्नल गुप्ता ने बच्चों को एनडीए परीक्षा की तैयारी के विषय में जानकारी देते हुए कहा कि बच्चे सबसे पहले एनडीए परीक्षा के सिलेबस को देखे, अपने 11वीं तथा 12वीं कक्षा के सिलेबस पर बेहतर ढंग से पढ़ने के साथ-साथ रोजाना अख़बार पढ़ने की आदत डाले इससे उन्हें एनडीए की परीक्षा की तैयारी में बहुत मदद मिलेगी। कर्नल गुप्ता ने साझा किया कि एनडीए एंट्रेंस परीक्षा में 12वीं कक्षा पास बच्चों के साथ-साथ 12वीं पढ़ रहे बच्चे भी शामिल हो सकते है।

उन्होंने कहा कि एनडीए में शामिल होने के लिए पहला कदम एंट्रेंस टेस्ट पास करना है इसलिए ये बेहद ज़रूरी है कि बच्चे उसपर फोकस करे और एनडीए एंट्रेंस के पिछले प्रश्न-पत्रों को हल करें। उन्होंने बच्चों को अपना टाइम-टेबल बनाने और उसका पालन करने के साथ-साथ अपने फिजिकल फिटनेस पर भी ध्यान रखने की सलाह दी।

Comments are closed.