कांग्रेस पार्षद चौधरी जुबेर अहमद ने लड़कियों के लिए निजी फंड से लाइब्रेरी बनाकर पेश की मिसाल

 

रिपोर्ट-रवि डालमिया

कहते हैं एक लड़का पढ़ता है तो वह शिक्षित होता है, लेकिन जब एक लड़की पढ़ती है तो पूरा परिवार शिक्षित होता है. देश में लड़कियों की शिक्षा के कारण न सिर्फ उनके व्यक्तित्व का विकास हुआ, बल्कि पुरातन मान्यताओं के गहरे भंवर को समाप्त कर वे प्रकाश की ओर बढ़ीं. शिक्षा के सहयोग से लड़कियां रूढ़ियों की बेड़ियों से आजाद हुईं और असल माएने में आजादी का मतलब समझीं. शिक्षा से ही आज लड़कियां अपने सपनों की उड़ान भर रही हैं.

पार्षद ने लड़कियों के लिए निजी फंड से लाइब्रेरी बनाकर मिसाल पेश की

इसी के मद्देनजर पूर्वी दिल्ली नगर निगम के चौहान बांगर वार्ड से पार्षद ने लड़कियों के लिए निजी फंड से लाइब्रेरी बनाकर मिसाल पेश की है.दरअसल, सीलमपुर विधानसभा के चौहान बांगर में कांग्रेस पार्षद चौधरी जुबेर अहमद ने क्षेत्र की लड़कियों को बेहतरीन शिक्षा देने के लिए अपने निजी फंड से लाइब्रेरी का निर्माण कराया है. इस लाइब्रेरी का नाम पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम के नाम पर रखा गया है. इस लाइब्रेरी में तमाम तरीके की अत्याधुनिक सुविधाएं उपलब्ध हैं, जिससे यहां पढ़ने आने वाली लड़कियों को किसी तरह की कोई परेशानी नहीं होगी.

एक बार में 50 लड़कियां एक साथ बैठ कर पढ़ सकती हैं

इस लाइब्रेरी में एक बार में 50 लड़कियां एक साथ बैठ कर पढ़ सकती हैं. यहां सीबीएसई, इतिहास, प्रतियोगी परीक्षा की पुस्तकें उपलब्ध हैं. साथ ही धार्मिक किताबें भी यहां रखी गई हैं. मुस्लिम बहुल इलाके के मद्देनजर इस लाइब्रेरी में नमाज पढ़ने की भी जगह बनाई गई है.

Comments are closed.