कोरोना महामारी से निपटने की नीतियों पर श्वेत पत्र जारी करे केजरीवाल सरकार : अनिल कुमार

-जब केजरीवाल के कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट 12 घंटे में आ सकती है तो दिल्ली के लोगों को रिपोर्ट के लिए कई दिनों तक क्यों इंतजार करना पड़ता है

नई दिल्ली, 10 जून (TSN)। केजरीवाल सरकार की निष्क्रियता और अक्षमता के कारण जहां दिल्ली की जनता को कोरोनावायरस का कहर झेलना पड़ रहा है। वहीं, दिल्ली की गैर-जिम्मेदार सरकार कोरोना नियंत्रण को लेकर अपने हाथ खड़े कर रही है। यह बातें दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौधरी अनिल कुमार ने बुधवार को जारी एक बयान में कहीं।
उन्होंने कहा कि आज, दिल्ली में कोरोना महामारी का फैलाव लगभग सामुदायिक स्तर तक पहुँच गया है, तब भी अरविंद केजरीवाल  कोरोनावायरस के तेज प्रसार को नियंत्रित करने के बजाय आरोप-प्रत्यारोप की राजनीति कर रहे है। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के प्राथमिक चरण में जब कोरोना महामारी की रफ्तार बहुत कम थी। उस समय केजरीवाल सरकार ने उदासीनता बरती और अब राजनीति करने में मशगूल हैं। अनिल कुमार ने केजरीवाल सरकार से कोरोना महामारी से निपटने की नीतियों पर श्वेत पत्र की मांग की।
दिल्ली की सड़कों पर मरने को मजबूर हैं कोविड के मरीज
अनिल कुमार ने कहा कि कोरोना के कारण दिल्ली के हालात अब उस स्तर पर  पहुंच गए है कि केजरीवाल ने खुद एक संवाददाता सम्मेलन में स्वीकार किया है कि 31 जुलाई, 2020 तक, दिल्ली में लगभग 5 लाख 32 हजार कोरोना संक्रमित होंगे, और कोरोना रोगियों की बढ़ती संख्या के इलाज के लिए अस्पतालों में 80,000 बेडों की आवश्यकता होगी। उन्होंने कहा कि विडंबना यह है कि केजरीवाल सरकार ने स्वीकार किया है कि दिल्ली कोरोना एप के अनुसार उनके पास 9000 कोविड बेड में से 4000 बेड खाली हैं, जबकि हालात ऐसे है कि अस्पतालों में प्रवेश नहीं मिलने के कारण कोविड मरीज दिल्ली की सड़कों पर मरने को मजबूर हैं।
जनता की कोरोना रिपोर्ट कई दिन बाद तो केजरीवाल की महज 12 घंटे में कैसे
अनिल कुमार ने यह भी कहा कि जो मुख्यमंत्री लोगों को कोरोना परीक्षण करवाए बिना ही घर पर आइसोलेशन में रहने की सलाह दे रहे है। वही, सीएम खुद में कोरोना के लक्षण पाए जाने पर तुरंत कोरोना लैब जांच करवा रहे हैं। यही नही जिस जांच की रिपोर्ट आम जनता को कई कई दिन तक नही मिलती। वही, जांच रिपोर्ट सीएम केजरीवाल को महज 12 घंटे के अंदर मिल गई। हालांकि, अनिल कुमार ने केजरीवाल के अच्छे स्वास्थ्य की कामना की। मगर उन्होंने ये भी कहा कि दिल्ली के आम आदमी को भी उचित स्वास्थ्य सुविधाऐं मिलनी चाहिए।
सहानुभूति पाने के लिए ओछी राजनीति न करें सीएम
कांग्रेस अध्यक्ष अनिल कुमार ने कहा कि यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि कोरोना महामारी के दौरान सीएम केजरीवाल ने लोगों की सहानुभूति पाने के लिए औछे दर्जे की राजनीति करने का विकल्प चुना, लेकिन अब जब उन्हें लगता है कि वे कोरोना के खिलाफ लड़ाई हार गए हैं, तो वे इस बात की वकालत कर रहे है कि राजनीतिक दलों को ऐसे संकट के समय में आपस में लड़ना नही चाहिए।
दुख दर्द साझा करने के लिए ‘हीलिंग दिल्ली डॉट इन’ लांच
अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सोशल मीडिया चैयरमेन रोहन गुप्ता ने www.healingdelhi.in वेबसाईट लांच की। इस वेब साईट पर दिल्लीवासी अपने दुख दर्द साझा कर सकते है ताकि कांग्रेस पार्टी दिल्ली सरकार के संबधित अधिकारियों के दरवाजे को खोल सकें और दिल्ली के लोगों को मदद मिल सके।
स्पीक अप अभियान से प्राप्त वीडियो सीएम और एलजी को भेजे
अनिल कुमार ने कहा दिल्ली कांग्रेस द्वारा Speak Up Delhi अभियान शुरु करने के बाद दिल्ली की जनता से प्राप्त वीडियों को दिल्ली के उपराज्यपाल और मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल को भेज दिया है ताकि लोगों की समस्याओं को दूर करके उन्हें राहत और न्याय मिल सके।
Leave A Reply