Coronavirus : बच्ची के बाद यूके से आई एक और युवती में कोरोना संक्रमण की पुष्टि

मेडिकल कॉलेज में हुई जांच में हुई पुष्टि, जांच के लिए भेजे जा रहे सैंपल

– पूरा इलाका सील, कर्फ्यू जैसा माहौल

– ब्रिटेन से मेरठ आने वाले 88 लोगों की सूची जारी, 37 लोगों की हुई जांच, 12 लापता

– शाहवेज खान

मेरठ।

यूनाइटेड किंगडम (यूके) से मेरठ लौटी एक और युवती में कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण की पुष्टि हुई है। युवती के कॉटेक्ट में आए भाई सहित तीन लोग भी कोरोना से संक्रमित पाए गए हैं। इससे पहले ब्रिटेन से आई एक बच्ची में कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन की पुष्टि होने के बाद प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है। प्रशासन ने इलाके को सील कर तीनों को आइसोलेट कराया दिया है।

नए स्ट्रेन की जांच के लिए भेजे सैंपल

कोरोना वायरस (Coronavirus) के नए स्ट्रेन की जांच के लिए इनके सैंपल भेजे गए हैं। डीएमओ डा. प्रशांत ने बताया कि ब्रिटेन से आने वाले सभी पैसेंजर्स और पॉजिटिव मिले लोगों के कांटेक्ट में आए लोगों के घर के बाहर आइसोलेशन व क्वारंटीन का पोस्टर चस्पा किया गया है। वहीं, कंटेंटमेंट जोन घोषित कर बैरीकेडिंग की गई है। उन्होंने बताया कि अब तक 12 लोग नए स्ट्रेन को लेकर संदिग्ध पाए गए हैं। ब्रिटेन से आए 88 लोगों की सूची तैयार की गई है, उनमें 12 लापता हैं।

पुलिस और स्वास्थ्य विभाग हाई अलर्ट पर

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार आधिकारिक तौर पर ब्रिटेन से आई बच्ची में कोरोना के नए स्ट्रेन की पुष्टि होने के बाद पुलिस प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग को हाई अलर्ट पर रखा गया है। टीपी नगर थाना क्षेत्र के संत विहार कॉलोनी लल्लापुरा क्षेत्र को स्वास्थ्य विभाग ने गहन निगरानी में ले लिया है। इसके साथ ही घर-घर मॉक टेस्टिंग का अभियान शुरू किया गया है। इसके तहत 72 घरों के 124 लोगों की जांच की गई। इन सभी सैंपल को जांच के लिए लैब भेजा गया है। सुभारती मेडिकल कॉलेज के कोविड अस्पताल में संत विहार के इस परिवार को अन्य मरीजों से दूर रखा गया है। इस परिवार समेत छह अन्य लोग पॉजिटिव पाए गए हैं। इनके सैंपल नए स्ट्रेन की जांच के लिए भेज दिए गए हैं।

सभी सुरक्षित वार्ड में

ब्रिटेन से आई बच्ची में कोरोना वायरस (Coronavirus) के नए स्ट्रेन की पुष्टि होने के बाद सुभारती अस्पताल में परिवार को अलग वार्ड में रखा गया है। बच्ची और उसके माता पिता की कड़ी देखभाल की जा रही है। डाक्टर फिलहाल सभी की स्थिति ठीक और नॉर्मल बता रहे हैं। डाक्टरों के मुताबिक नॉर्मल मतलब खतरे वाले कोई लक्षण अब तक दिखाई नहीं दिए हैं। इनमें सांस, गला या किसी अन्य चीज में दिक्कत नहीं है। सुभारती अस्पताल के सीएमओ डॉक्टर कृष्णमूर्ति ने बताया कि सभी को सुरक्षित वार्ड में रखा गया है, जहां पर किसी को आने जाने की इजाजत नहीं है।

स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक यूके से आने वाले 88 लोगों की सूची तैयार की गई है। इससे में से अब तक 37 लोगों की जांच की जा चुकी है। जबकि सूची में शामिल 12 लोग अब भी विभाग की पहुंच से दूर हैं। डा. प्रशांत ने बताया कि गलत-पता व फोन नंबर होने की वजह ऐसे लोगों को ट्रेस करना मुश्किल हो रहा है। वहीं लोग बीमारी के डर से जानकारी छुपाने की कोशिश कर रहे हैं। इसकी वजह से विभाग को तमाम परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

कांटेक्ट में आए लोग होंगे होम आइसोलेट :

यूके से आने वाले लोगों में अगर (Coronavirus) नए स्ट्रेन की पुष्टि होती है तो उनके कांटेक्ट में आने वाले सभी लोगों को अनिवार्य रूप से होम या पेड आइसोलेशन में एडमिट करना होगा। इसके अलावा अगर किसी में लक्षण मिलता है तो उसकी जांच आरटी पीसीआर विधि से होगी।

बिना लक्षण वाले कांटेक्ट्स की जांच पांचवें या दसवें दिन की जाएगी। इससे पहले उन्हें आईवेर्मेक्टिन की खुराक दी जाएगी। शासन के निर्देशों के तहत यूके से आने वाले सभी लोगों की आरटी पीसीआर जांच स्टेट से लिस्ट मिलने के 24 घंटे के अंदर अनिवार्य रूप से करानी होगी। इसके अलावा सभी लोगों के मोबाइल पर आरोग्य सेतु एप, कोविड पोर्टल पर लैब रिपोर्ट लिंक, मेरा कोविड केंद्र, होम आइसोलेशन एप का लिंक भेजना जरूरी होगा।

दिल्ली की रिपोर्ट आने के बाद प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है। आनन-फानन में दोपहर बाद सीएमओ और उनकी पूरी टीम संत विहार कॉलोनी पहुंची। उसके साथ डब्ल्यूएचओ के अधिकारी भी मौके पर मौजूद रहे। टीपी नगर पुलिस को भी बुला लिया गया।

संत विहार कॉलोनी के गेट को बंद कर इलाके को सील कर दिया गया और गेट पर दो पुलिसकर्मियों को तैनात कर दिया गया है। दूसरी ओर, गली के दूसरे छोर पर भी बल्ली लगाकर बंद कर दिया गया है। वहां भी दो पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं। पूरा इलाका बंद कर दिया गया गया है। पूरे इलाके में कर्फ्यू जैसा माहौल है। यहां रहने वाले 286 लोगों को घरों में ही कैद कर दिया गया है। करीब 100 लोगों की कोरोना संक्रमण की जांच कराई गई है। आवश्यक वस्तुओं की सप्लाई के लिए प्रशासनिक टीमों को जिम्मेदारी दी गई है।

Read Top Story for the latest and breaking news from India and around the world.

Leave A Reply