कोविड काल के दौरान नोएडा डिपो की बसें आंनद विहार और कोशांबी डिपो होकर चलेंगी

कोविड काल के दौरान नोएडा डिपो की ज्यादातर बसें दिल्ली के आनंद विहार और गाजियाबाद के कौशांबी बस डिपो होकर चलेंगी।

नोएडा: कोविड काल के दौरान नोएडा डिपो की ज्यादातर बसें दिल्ली के आनंद विहार और गाजियाबाद के कौशांबी बस डिपो होकर चलेंगी। दोनों बस अड्डों में यात्रियों की बढ़ती संख्या और बसों की मांग के कारण यह फैसला लिया गया है।

जानकारी के मुताबिक कौशांबी बस अड्डे के रास्ते पहले पांच से छह बसे चलाई जाती थीं, जबकि बीते कुछ दिनों से आनंद विहार और कौशांबी बस अड्डे में यात्रियों की संख्या बढ़ने पर वहां बसों की मांग काफी अधिक है। दो दिन में 107 बसें कौशांबी के रास्ते बरेली, एटा, मैनपुरी, कासगंज, लखनऊ, कानपुर, बंदायू समेत अन्य शहरों के लिए भेजी गई हैं। यह बसें अभी लौटी नहीं हैं।

कहने को 215 बसें, लेकिन चलती हैं कम

मोरना स्थित नोएडा डिपो में 215 बसें हैं। इनमें से कुछ बसें खराब हैं। ऐसे में रोजाना औसतन 162 से 165 बसें रुट पर चलाई जाती हैं। डिपो से आगरा, मेरठ, सहारनपुर, बरेली, कालागढ़, फिरोजाबाद, शिकोहाबाद, कोटद्वारा, बिजनौर, नजीबाबाद, हरिद्वार, मथुरा, हाथरस, मैनपुरी, एटा, कासगंज समेत अन्य शहरों के लिए बसें चलती हैं।

मांग के अनुसार व्यवस्था जारी 

डिपो के सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक हाकिम सिंह ने कहा कि जितनी बसों की मांग की जाती हैं, यहां से भेज दी जाती हैं। उन्होंने कहा इन दिनों ज्यादातर बसें आनंद विहार और कौशांबी के रास्ते चलाई जा रही हैं और मांग के अनुसार यह व्यवस्था जारी रहेगी।

रविवार को 30 बसें चलाई गई

कोरोना कर्फ्यू के दौरान रविवार को 30 बसें नोएडा डिपो से चलाई गई हैं। इसमें दस बसें कौशांबी के रास्ते और बाकी नोएडा डिपो से सीधे रूट पर निकली हैं। यह बसें एटा, कासगंज, बरेली, आगरा और मेरठ आदि शहरों के लिए निकली हैं। जानकारी के मुताबिक अन्य दिनों की तुलना में यात्रियों की संख्या काफी कम थी। एक बस में औसतन 18 से 20 यात्री सवार थे।

Leave A Reply