DDMA का सख्त आदेश-कोरोना की फर्स्‍ट डोज नहीं लेने वाले सरकारी कर्मचारी माने जाएंगे ‘ऑन लीव’

द‍िल्‍ली सरकार खासकर वैक्‍सीन‍ेशन की प्रक्र‍िया को जल्‍द से जल्‍द पूरा कर द‍िल्‍लीवालों को वैक्‍सीनेट कराने की कोश‍िश में जुटी हुई है.

राजधानी दिल्ली में कोरोना से ब‍िगड़ते हालात में भले ही सुधर रहे हों और राज्य में चरणबद्ध तरीके से  खोला भी जा रहा है. लेक‍िन सामान्य होते हालात के बावजूद राज्य सरकार कोई भी ढील बरतने के मूड़ में नहीं है. द‍िल्‍ली सरकार खासकर वैक्‍सीन‍ेशन की प्रक्र‍िया को जल्‍द से जल्‍द पूरा कर द‍िल्‍लीवालों को वैक्‍सीनेट कराने की कोश‍िश में जुटी हुई है.

इस संबंध में आज दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की ओर से एक बार फ‍िर सख्‍त आदेश न‍िकालते हुऐ 15 अक्‍टूबर तक सरकारी कर्मचार‍ियों को कोरोना वैक्‍सीन डोज (Corona Vaccine Dose) यानी (पहली डोज) को लेना अन‍िवार्य कर द‍िया है. अगर इसका कोई अनुपालन नहीं करेगा तो उसे अनुपस्‍थ‍ित मानते हुए ‘ऑन लीव’ मार्क कि‍या जाएगा.

आज यानी शुक्रवार को डीडीएमए के स्‍टेट एग्‍जीक्‍यूट‍िव कमेटी के चेयरपर्सन और द‍िल्‍ली के चीफ सेक्रेटरी व‍िजय देव की ओर से एक नया आदेश जारी क‍िया गया है. इसमें साफ और स्‍पष्‍ट तौर पर ये आदेश द‍िया गय है क‍ि सभी सरकारी कर्मचारी 15 अक्‍टूबर से पहले अपना कोरोना वैक्‍सीनेशन करवा लें.

Comments are closed.