दिल्ली : इलाके का नामी गुंडा, स्कूल मॉनिटरिंग कमेटी का सदस्य, आप पार्टी का बीसी कर्मचारी पोक्सो एक्ट में गिरफ्तार

 

रिपोर्ट : राकेश रावत

जिस स्कूल की मॉनिटरिंग की जिम्मेदारी थी उसी स्कूल की छात्रा पर थी गलत निगाह

राजधानी दिल्ली की रोहिणी जिले की कंझावला थाना पुलिस ने दिल्ली सरकार के अधीनस्थ कर्मचारी को नाबालिक छात्रा के साथ छेड़छाड़, अश्लील मेसेज भेजने और यौन सम्बन्ध बनाने के लिए दवाब डालने के आरोप में गिरफ्तार किया है, जिसको स्कूलों की मॉनिटरिंग की जिम्मेदारी थी और जिस स्कूल की मॉनिटरिंग की जिम्मेदारी थी उसी स्कूल की छात्रा को बहला-फुसलाकर अपने जाल में फंसा रहा था. जब बात हद से ज्यादा बढ़ गई तो लड़की ने अपने घर वालों को इसकी शिकायत की और घरवालों ने कंझावला थाना पुलिस में इसकी शिकायत दी. कंझावला थाना पुलिस ने कार्यवाही करते हुए उसको गिरफ्तार कर लिया. जिसकी पहचान प्रदीप उस बल्ली के रूप में हुई है वह इलाके का नामी गुंडा है और बीसी है. जिस पर रंगदारी, झगड़ा करने, रेप और लड़की से छेड़छाड़ के 23 से ज्यादा मामले दर्ज हैं।

सरकारी स्कूल में पढ़ने वाली 17 वर्षीय छात्रा ने शिकायत दी

रोहिणी जिले के डीसीपी प्रणव तायल ने बताया कि सरकारी स्कूल में पढ़ने वाली 17 वर्षीय छात्रा ने शिकायत दी थी कि वह एसकेवी कंझावला स्कूल में पढ़ती है और इलाके के विधायक द्वारा नियुक्त स्कूल की मॉनिटरिंग कमेटी सदस्य प्रदीप उर्फ बल्ली उस पर गलत निगाह रखता है. वह उससे लगातार छेड़छाड़ करता रहता है और उसे अकेले बुलाकर उसके साथ गलत सम्बन्ध बनाने का दवाब बना रहा है. आरोपी ने किसी तरह लड़की का नंबर ले लिया और उसको अश्लील मैसेज भेज कर उसको परेशान कर रहा था तथा उससे यौन संबंध बनाने के लिए प्रेरित कर रहा था. कंझावला थाना पुलिस ने लड़की की शिकायत पर मामला दर्ज किया और जांच शुरू की. जांच में पुलिस को जानकारी मिली कि दिल्ली सरकार ने दिल्ली के स्कूलों की मॉनिटरिंग कमेटी के लिए इलाके के विधायक को जिम्मेदारी दी थी. इलाके का विधायक अपनी तरफ से तीन से चार लोग अप्वॉइंट कर सकता था जिस पर क्षेत्र के एक स्कूल की जिम्मेदारी होती थी. ये सदस्य उस स्कूल की मॉनिटरिंग करेंगे कि जिसमें फैसिलिटी अवेलेबल है या नहीं है, अध्यापक ढंग से पढ़ा रहे हैं नहीं, या फिर कोई कमी है तो वह दिल्ली सरकार को बताएंगे. इस मॉनिटरिंग सदस्य को दिल्ली सरकार पांच लाख रूपए सालाना का पॅकेज देती है. इसी जिम्मेदारी के तहत कंझावला के विधायक ने प्रदीप उर्फ़ बल्ली को एस के वी स्कूल की मॉनिटरिंग की जिम्मेदारी दी थी।

एक्सटॉर्शन, झगड़ा करने, रेप और मारपीट के 23 से ज्यादा मुकदमे दर्ज

प्रदीप उर्फ़ बल्ली इलाके का घोषित बदमाश है और उस पर एक्सटॉर्शन, झगड़ा करने, रेप और मारपीट के 23 से ज्यादा मुकदमे दर्ज हैं. इसके बावजूद इलाके के विधायक ने उसको स्कूल की मॉनिटरिंग कमेटी का सदस्य बनाकर उसे स्कूल की जिम्मेदारी दी. एस के वी स्कूल में पढ़ने वाली 17 साल की एक लड़की को वह लगातार गलत निगाह रख रहा था और आते जाते उसे छेड़छाड़ करने की कोशिश कर रहा था. लड़की बार-बार विरोध कर रही थी लेकिन वह अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा था और उसे कह रहा था कि तुझे कोई दिक्कत हो तो मुझे बताओ मैं इस स्कूल के टीचरों को निकलवा दूंगा और तुझे आसानी से पास करवा दूंगा. उसने किसी तरह से उस लड़की का नंबर ले लिया और लड़की के नंबर पर अश्लील मैसेज भेजता था. वह छात्रा को अकेले मिलने के लिए लगातार बोला रहा था और लड़की उसका बार-बार विरोध कर रही थी।

आरोपी के खिलाफ 354a आईपीसी एक्ट और 12 पोक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज

जब प्रदीप उर्फ़ बल्ली की हरकतें ज्यादा बढ़ गई और उससे रहा नहीं गया तब उसने इस बात की शिकायत अपने घर वालों से की. घरवालों ने कंझावला थाने में उसके खिलाफ लिखित शिकायत दी.जिसके बाद कंझावला थाना पुलिस ने इसकी जांच शुरू कर दी. पुलिस ने लड़की के मोबाइल की सारी कॉल डिटेल और मैसेजेस पढ़े और पुलिस ने मामला दर्ज किया. पुलिस ने आरोपी के खिलाफ 354a आईपीसी एक्ट और 12 पोक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज करके प्रदीप और बिल्ली को उसके घर से गिरफ्तार कर लिया. अब सवाल यह उठता है कि जब इलाके के बीसी को स्कूल की मॉनिटरिंग जैसे जिम्मेदारी वाले पदों पर रखेंगे तो स्कूलों की क्या हालत होगी. अब सवाल यह उठता है कि दिल्ली सरकार ने क्या उसको अप्वॉइंट करने से पहले उसकी छानबीन नहीं की, या इलाके के विधायक को नहीं पता था कि वह इलाके का बीसी है और नामी गुंडा है और उस पर दर्जनों मुकदमे दर्ज है. पुलिस ने बल्ली को गिरफ्तार करके आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है।

 

Comments are closed.