दिल्ली : दिल्ली के आउटर जिला पुलिस ने एक फर्जी कॉल सेंटर का किया भंडाफोड़, संचालक समेत तीन लोगों को गिरफ्तार

 

रिपोर्ट : राकेश रावत

राजधानी दिल्ली के आउटर जिला पुलिस ने एक फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़ किया है. यह गिरोह बजाज फाइनेंस लिमिटेड के नाम से फर्जी कॉल सेंटर चला रहा था पुलिस ने कॉल सेंटर के संचालक समेत तीन लोगों को गिरफ्तार किया है कॉल सेंटर की संचालिका मनीषा अहीरवाल है पुलिस ने उनके कब्जे से तीन मोबाइल फोन और 4 सिम कार्ड बरामद किए हैं।

साइबर थाना पुलिस में शिकायत दर्ज

आउटर जिले के डीसीपी समीर शर्मा ने बताया कि मुंडका निवासी दिलीप कुमार ने साइबर थाना पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी कि उनको एक अनजान नंबर से कॉल आया और खुद को बजाज फाइनेंस के अधिकारी के रूप में बताया और उनसे क्रेडिट कार्ड जारी करने के संबंध में बात की इसके बाद उन्होंने बजाज फाइनेंस की एक फर्जी वेबसाइट का लिंक भेजा और उस पर एक रूपए का भुगतान करने के लिए कहा जब उन्होंने एक रूपए उनके खाते में डाल दिए तो उनके क्रेडिट कार्ड से 24745 रूपए निकल गए पुलिस ने जांच शुरू की और फोन नंबरों की कॉल डिटेल निकाली तो जांच के दौरान पाया गया कि यह लेनदेन मनीषा अहीरवाल नामक एक महिला के जरिए हुआ है पुलिस ने फर्जी कॉल सेंटर का पता लगाया और छापेमारी करके मनीषा अहिरवाल और उसके दो साथियों को गिरफ्तार कर लिया।

आरोपी कुणाल और नेहा को पकड़ने के लिए छापेमारी जारी

पुलिस ने मनीषा के साथ उसके कॉल सेंटर में काम करने वाली कल्पना और रीमा को भी गिरफ्तार किया है. पूछताछ में मनीषा ने बताया कि वह गुड़गांव निवासी कुणाल शाह के संपर्क में थी जो उसे फर्जी वेबसाइट, फर्जी बैंक खाते और सिम कार्ड प्रदान करता था कुणाल की एक साथी नेहा जो इसको ग्राहकों का डाटा मुहैया करवाती थी। मनीषा ने बताया कि वो ग्रेजुएट है और करीब 2 साल तक उसने कॉल सेंटर में काम किया था इसके बाद उसकी नौकरी छूट गई तो उसने फर्जी कॉल सेंटर खोलने की योजना बनाई जिसके बाद वो कुणाल के सपर्क में आयी और कुणाल ने उसको फ़र्ज़ी वेबसाइट, बैंक खाते और सिम कार्ड मुहैया कराये. यह गिरोह अब तक सैकड़ो लोगों को चूना लगा चुका है पुलिस अब आरोपी कुणाल और नेहा को पकड़ने के लिए छापेमारी कर रही है।

Comments are closed.