सीएम योगी ने किया ग्रेटर नोएडा में बनने वाले योट्टा डाटा सेंटर पार्क का शुभारंभ

देश के सबसे बड़े डाटा सेंटर पार्क पर खर्च किए जाएंगे 6000 करोड़ रुपये

– 18 महीने में पूरा होगा परियोजना का पहला चरण, 1000 लोगों को मिलेगा रोजगार

ग्रेटर नोएडा। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने रविवार को ग्रेटर नोएडा के नॉलेज पार्क-5 में प्रदेश के सबसे बड़े योट्टा डाटा सेंटर पार्क के प्रोजेक्ट का ऑनलाइन शुभारंभ किया। इस दौरान मुख्यमंत्री को बताया गया कि भारत सरकार की इज ऑफ डूइंग बिजनेस योजना के तहत वर्ष-2017 में देश में उत्तर प्रदेश 12वें स्थान पर था, लेकिन अब दूसरे पायदान पर पहुंच गया है। योगी आदित्यनाथ को भरोसा दिया गया कि अपना प्रदेश शीघ्र ही देश में अव्वल होगा। मुख्यमंत्री को यह भी बताया गया कि फरवरी-2020 में आयोजित डिफेंस एक्सपो से अब तक प्रदेश में 50 हजार करोड़ रुपये का पूंजी निवेश कनाडा, यूएसए, यूके, जापान और दक्षिण कोरिया से मिला है। ब्रिटानिया ग्रुप शीघ्र ही प्रदेश में फूड प्रोसेसिंग के क्षेत्र में 300 करोड़ रुपये का निवेश करेगी। प्रदेश के डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा ने मुख्यमंत्री को बताया कि डाटा सेंटर नीति बनाये जाने का काम प्रगति पर है। उसे शीघ्र ही पूरा कर लिया जाएगा।

कार्यक्रम के दौरान प्रदेश के औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने बताया कि मुंबई के प्रमुख हीरा व्यापारी हीरा नंदानी समूह ग्रेटर नोएडा में देश का पहला डाटा सेंटर बनाने के लिए सरकार ने पांच दिनों में 80 हजार 961.56 वर्गमीटर भूखंड का आवंटन किया गया है।

समारोह में प्रदेश के मुख्य सचिव आरके तिवारी, औद्योगिक विकास विभाग के प्रमुख सचिव आलोक कुमार, औद्योगिक विकास विभाग के आयुक्त और नोएडा ग्रेटर नोएडा व यमुना प्राधिकरण के अध्यक्ष आलोक टंडन, ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ नरेंद्र भूषण, हीरा नंदानी समूह की ओर से डॉ. निरंजन हीरा नंदानी, दर्शन हीरा नंदानी, योट्टा डाटा सेंटर पार्क ग्रेटर नोएडा प्रोजेक्ट के सीईओ सुनील गुप्ता आदि शामिल हुए।

ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ नरेंद्र भूषण ने बताया कि योट्टा डाटा सेंटर पार्क का निर्माण जनवरी-2021 से शुरू हो जाएगा। आज इसका भूमि पूजन हो गया। इस प्रोजेक्ट का प्रथम चरण 18 महीने में पूरा कर लिया जाएगा। पहले चरण की परियोजना पर लगभग 1000 करोड़ रुपये का निवेश किया जाएगा। पूरी परियोजना की लागत 6000 करोड़ होगी। उन्होंने बताया कि भारत में डाटा सेंटरों की क्षमता वर्तमान में कुल 400 मेगावाट है, जिसमें से 250 मेगावाट की क्षमता योट्टा डाटा सेंटर पार्क से पूरी की जाएगी। सीईओ ने बताया कि ग्रेटर नोएडा में बनने वाले डाटा सेंटर को 20 एकड़ क्षेत्रफल में विकसित किया जाएगा। परियोजना में कुल 06 टॉवर बनाए जाएंगे। परियोजना का पहला चरण वर्ष-2022 में और पूरी परियोजना पांच वर्ष में पूरी होगी। इसमें लगभग 1000 लोगों को रोजगार मिलेगा।

Leave A Reply