दिल्ली की सड़कों पर जलभराव से लगा लंबा जाम, डेंगू-मलेरिया फैलने का खतरा भी बढ़ा

-‘वर्ल्ड क्लास’ सीवर से पहले केजरीवाल ढांचागत व्यवस्था में तुरंत सुधार कराएं : आदेश गुप्ता

नई दिल्ली। एक बार फिर दिल्ली में कुछ समय की बरसात ने दिल्ली के छोटे-बड़े नालों में उफान ला दिया और अनेक कॉलोनियों सहित सड़कों पर पानी जमा हो गया। इस कारण लोगों को जगह-जगह घंटों जाम की समस्या का सामना करना पड़ा।यह बातें प्रदेश भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने सोमवार को कही।

उन्होंने ये भी कहा कि बरसात ने दिल्ली को ऐसा धोया है कि ‘वर्ल्ड क्लास’ सिटी में जगह-जगह टापू नज़र आने लगे हैं। उन्होंने कहा कि हमने तो मानसून से पहले ही दिल्ली सरकार को आगाह किया था और साथ ही कई सूझाव भी दिए थे ताकि मानसून आने से पहले सरकार अपनी पूरी तैयारी कर लें, लेकिन दूसरे राज्यों में चुनावी पर्यटन में व्यस्त केजरीवाल और उनके मंत्रियों ने इस बात को भी अनदेखा कर दिया जिससे आज स्थिति बद से बदतर हो गई। उन्होंने कहा कि जगह-जगह पानी जमा होने से चिकिनगुनिया, डेंगू, और मौसमी बीमारियां बढ़ेगी जिससे हज़ारों लोगों के प्रभावित होने का खतरा बढ़ गया है। गुप्ता ने कहा कि जल भराव न हो इसके लिए कदम उठाने के साथ ही दिल्ली सरकार को डेंगू, मलेरिया और चिकिनगुनियां की रोकथाम के उपाय भी करने चाहिये।

उन्होंने कहा कि दिल्ली में हल्की बारिश के बाद कई इलाकों में जलजमाव की समस्या हो गई है जिससे कई क्षेत्रों में गाड़ियां फंस गई हैं। कई क्षेत्रों में हुई भारी बारिश की वजह से सड़कें तलाब बन गई।

दिल्ली की इस स्थिति पर आदेश गुप्ता ने तंज कसते हुए कहा कि दिल्ली को ‘वर्ल्ड क्लास सिटी’ बनाने का दावा करने वाले मुख्यमंत्री इसे एक बेहतर शहर बनाने की कोशिश करें तो ज्यादा अच्छा होगा। उन्होंने कहा कि दिल्ली में आम आदमी पार्टी के सत्ता में आने के बाद सड़के बदहाल हैं, नाले-नालियों में से गाद निकाली नहीं जाती। पी.डब्ल्यू.डी. और सिंचाई विभाग अपनी जिम्मेदारी ठीक तरह से निभा नहीं रहे हैं, जिस कारण कम बरसात में भी हर बार दिल्ली तालाब बनी नज़र आती है।

गुप्ता ने कहा कि इस बार मानसून देरी से आया। इसलिए दिल्ली सरकार को नालों की सफाई के लिए ज्यादा समय भी मिला, लेकिन मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उनके मंत्रियों की अनदेखी के कारण दिल्ली वाले हर बार अपने घरों में पानी को बहता देखने को बेबस हैं। उन्होंने कहा कि केजरीवाल सरकार को चाहिए कि दिल्ली में ‘वर्ल्ड क्लास’ सीवर से पहले ढांचागत व्यवस्था में तुरंत सुधार करें ताकि आने वाले दिनों में दिल्ली को पानी-पानी होने से बचाया जा सके।

गुप्ता ने कहा कि सीवरों और नालों की सफाई न होने से रिंग रोड सहित बड़ी सड़कों को भी खतरा है जिनके नीचे से सीवर या नाले निकल रहे हैं। कब कहां कौन सी सड़क बैठ जाए और जानलेवा बन जाए, यह सोच कर ही लोग परेशान हैं। उन्होंने सरकार को इस समस्या को हल्के में न लेने की अपील करते हुए जल निकासी की प्रणाली में सुधार के लिए तेजी से कदम उठाने को कहा है।

Comments are closed.