दिल्ली को 700 मीट्रिक टन ऑक्सीजन दी जाए: मनीष सिसोदिया

-ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित कर, डिलीवरी में दूसरे राज्यों की दखलंदाजी रोके केंद्र सरकार

नई दिल्ली। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस के माध्यम से केंद्र सरकार के सामने दिल्ली के लिए ऑक्सीजन की नियमित सप्लाई और कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए दिल्ली के ऑक्सीजन का कोटा बढ़ाने की मांग की।

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली सरकार पिछले 4-5 दिनों से केंद्र सरकार से मांग कर रही है कि दिल्ली में ऑक्सीजन की सप्लाई बढ़ाई जाए क्योंकि दिल्ली के अस्पतालों को ऑक्सीजन की कमी का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि दिल्ली में केंद्र सरकार द्वारा ऑक्सीजन का जितना कोटा तय किया गया है, मरीजों की संख्या बढ़ने से दिल्ली में उससे ज़्यादा ऑक्सीजन की ज़रूरत है।

उन्होंने कहा, दिल्ली सरकार ने केंद्र सरकार से मांग की है कि दिल्ली के कोटे में आने वाली ऑक्सीजन सप्लाई को 378 मीट्रिक टन से बढ़ाकर 700 मीट्रिक टन की जाए। लेकिन केंद्र सरकार ने अबतक इस ओर ध्यान नहीं दिया है। हमारा केंद्र सरकार से पुनः आग्रह है कि दिल्ली में ऑक्सीजन सप्लाई को बढ़ाया जाए और उसकी आपूर्ति सुनिश्चित की जाए।

उपमुख्यमंत्री ने आगे कहा कि कोरोना से कोई राज्य या केंद्र सरकार अकेले नहीं लड़ सकती है, हम सब साथ मिलकर ही इस महामारी से लड़ सकते है इसलिए केंद्र सरकार ऑक्सीजन की आपूर्ति में दिल्ली का सहयोग करें। उन्होंने कहा कि दिल्ली के अस्पतालों में लगभग 18 हज़ार कोरोना के पेशेंट भर्ती है इसमें न केवल दिल्ली के मरीज ही है बल्कि आसपास के राज्यों के मरीज भी शामिल है।

ऑक्सीजन को लेकर शुरू हुए संकट पर मनीष सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली में ऑक्सीजन सप्लाई को लेकर दूसरी परेशानी ये आ रही है कि केंद्र सरकार द्वारा दिल्ली को जो ऑक्सीजन भेजी जा रही है, उसे दिल्ली तक लाने में कठिनाई हो रही है। उन्होंने बताया कि दिल्ली के अस्पतालों में बुधवार रात दोबारा ऑक्सीजन की शॉर्टेज होने वाली है क्योंकि फरीदाबाद के प्लांट से दिल्ली के लिए जो ऑक्सीजन ट्रक से भेजी जाने वाली थी, उसे हरियाणा के एक अधिकारी ने हरियाणा में ही रोक लिया।

एक ऐसा ही वाकया कल रात मोदीनगर प्लांट में भी हुआ जहां अधिकारियों द्वारा दिल्ली आने वाले ऑक्सीजन ट्रक को रोक दिया गया। और केंद्र सरकार के एक बड़े मंत्री से फ़ोन पर बात करने और उनके दखल के बाद मोदीनगर से उस ट्रक को दिल्ली आने दिया गया।

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि जब केंद्र ऑक्सीजन की सप्लाई तय करता है तो दूसरे राज्य उसमें हस्तक्षेप न करें। केंद्र सरकार को ये सुनिश्चित करना होगा कि राज्यों को बिना किसी दखलंदाजी के उनके कोटे के ऑक्सीजन मिले और राज्यों के बीच खींचतान की स्थिति न बनें। उन्होंने सभी राज्यों और केंद्र सरकार से अपील कि, की हमें आपस में नहीं बल्कि इस महामारी से साथ मिलकर लड़ना है।

Leave A Reply