Electricity crisis: देश मे बिजली संकट, कोयले की कमी से पावर प्लांट्स नहीं उत्पन्न कर पर रहे ह जरूरत अनुसार बिजली

Electricity Cricis: देश में बिजली संकट की भारी परेशानी आने वाली है क्योंकि थर्मल पावर प्लांट में कोयले की कमी हो रही है। कोयले की गंभीर संकट के बीच बिजली उत्पादन बंद होने की आशंका है।

 

 कोयले की बढ़ती कमी के वजह से कोयला खनन कंपनी कोल् इंडिया सरकार के निशाने पर आ गई है।

केंद्र सरकार ने कोल इंडिया कंपनी को फटकार लगाते हुए कहा है कि जल्द से जल्द कोयले की नियमित आपूर्ति की जाए। केंद्रीय एजेंसी सेंट्रल इलेक्ट्रिसिटी अथॉरिटी के अनुसार 72 थर्मल पावर प्लांट में 8817 मेगावाट बिजली का उत्पादन ठप पड़ गया है बिजली की मांग लगातार बढ़ती ही जा रही है इसके वजह से पावर एक्सचेंज में 10000 मेगावाट बिजली की ट्रेंडिंग ₹20 प्रति यूनिट चल रही है।

कब तक रहेगी ऐसी स्तिथि 

कोयला सचिव ने कोयला खनन कंपनी के चेयरमैन प्रमोद अग्रवाल को 27 सितंबर को एक पत्र लिखा था जिसमें उन्होंने पावर प्लांट में कोयले के स्टॉक में लगातार हो रही कमी के बारे में चिंता जताई थी। सूत्रों की मानें तो कई बार लगातार याद दिलाने के बावजूद भी अभी तक स्थिति में कोई सुधार नहीं देखा जा रहा है। इस मामले की गंभीरता को समझते हुए मंत्रिमंडल में कई बैठक हो चुकी और कई सुझाव भी दिए गए लगता है जिन पर अभी तक अमल नहीं किया गया है।

Comments are closed.