ईएसआई कोविड अस्पताल में बदलने की संभावनों पर उद्यमियों ने लगाई आपत्ति

अस्पताल के आधे से ज्यादा बेड सामान्य व गंभीर मरीजों के लिए किए जाए रिजर्व नोडल अधिकारी को पत्र लिखकर संस्था ने कराया अवगत

नोएडा: सेक्टर-24 ईएसआई अस्पताल को कोविड अस्पताल में बदलने जाने की अटकलों पर एमएसएमएई इंडस्ट्रियल एसोसिएशन ने आपत्ति जताई है। संस्था ने कोविड नोडल अधिकारी को पत्र लिखकर ईएसआई अस्पताल की ओपीडी सेवा व आधे से ज्यादा बेड अन्य गंभीर मरीजों के लिए रिजर्व रखने की मांग की। ताकि कामगारों को सहीं से इलाज मिल सके।

संस्था के अध्यक्ष सुरेंद्र नाहटा ने कहा कि जनपद में कामगारों व उनके आश्रितों के इलाज के लिए महज एक सेक्टर-24 में ईएसआई अस्पताल है। अस्पताल 300 बेड का है। जिसमे पहले से ही 50 बेड कोविड के लिए रिजर्व है। संज्ञान में आया कि 300 बेड में सभी 3०० बेड कोविड के इलाज को समर्पित किए जा रहे है। ऐसे में सामान्य मरीज या अन्य गंभीर बीमारियों से जूझ रहे मरीजों का इलाज कैसे किया जाएगा। उन्होंने बताया कि जनपद में लगभग 13 लाख ईएसआई रजिस्टर्ड कामगार हैं व उनके करीब 45 लाख आश्रित है। जिनको इलाज के लिए एक मात्र अस्पताल ईंएसआई सेक्टर-24 है। अस्पताल में करीब आधे से ज्यादा बेड सामान्य मरीजों के लिए रखे जाए। साथ ही ओपीडी सेवा भी निरंतर जारी रहे। ताकि कामगार सामान्य बीमारियों व कोविड से अलग गंभीर बीमारियों के लिए महंगे अस्पतालों की ओर न जाए।

Leave A Reply