फिल्मों में अंग्रेजी पात्र बढ़ने के बाद सेंसर बोर्ड जागा, पात्रों के नाम स्थानीय भाषा में रखने के आदेश

अब फिल्मों के शीर्षक, कलाकारों के नाम और क्रेडिट उसी भाषा में दिखानेे होंगे, जिस भाषा में चाहिए प्रमाणन

मुंबई। केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) ने निर्माताओं से कहा है कि फिल्मों के शीर्षक, कलाकारों के नाम और क्रेडिट उसी भाषा में दिखाएं, जिस भाषा में प्रमाणन के लिए फिल्म भेजी गई है। इस के लिए सेंसर बोर्ड के मुखिया प्रसून जोशी की ओर से लिखित आदेश जारी किया गया है।

दरअसल, इन दिनों देश में हिंदी समेत तमाम क्षेत्रीय भाषाओं की फिल्मों में पात्रों का नाम अंग्रेजी में देने का चलन बढ़ता जा रहा है जिसे देखते हुए सेंसर बोर्ड (सीबीएफसी) ने उक्त आदेश जारी किया है। यह भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के तहत आने वाला कानूनी निकाय है।

हिंदी और क्षेत्रीय भाषाओं की फिल्म के लिए इसे महत्वपूर्ण फैसला माना जा रहा है। अब तक इन भाषाओं की फिल्मों में अंग्रेजी में ही सारी जानकारियां दी जाती रही हैं।

 

सीबीएफसी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रविंद्र भाकर ने एक विज्ञप्ति जारी कर कहा, आप के संज्ञान में लाया जाता है कि सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने चलचित्र (प्रमाणन) नियमावली-1983 के नियम-22 में संशोधन के लिए अधिसूचना जारी की है जिसके तहत फिल्म का शीर्षक, कलाकारों के नाम और आभार उस में लिखे होने चाहिए जिस में फिल्म के संवाद हैं और अगर आवेदक की इच्छा हो तो वह संवाद वाली के अलावा इन्हें अन्य में प्रदर्शित कर सकता है।

Leave A Reply