फाइनेंस कंपनी के गुंडों ने बलपूर्वक छीन लिया वाहन

महिन्द्रा फायनेंस की एक और गुंडागर्दी RBI के दिशानिर्देशों का खुलेआम उल्लंघन

राम बिशाल पासवान

प्रयागराज: कौशाम्बी फाइनेंस कंपनी के गुंडों ने एक बार फिर बल पूर्वक वाहन छीन लिया है मामला कोखराज थाना क्षेत्र के मूरतगंज का है जबकि सुप्रीम कोर्ट हाईकोर्ट ने स्पष्ट तौर पर निर्देश दिया है कि वाहन स्वामी के पास रहेगा फाइनेंसर ऋण दाता है वाहन स्वामी नहीं हो सकता है उसे वाहन छीनने का अधिकार नहीं है* लेकिन फिर भी फाइनेंस कंपनियों के गुंडों द्वारा बलपूर्वक वाहन को छीना जा रहा है ।

फाइनेंस कंपनी के गुंडों द्वारा वाहन छीने जाने के बाद वाहन स्वामी ने पुलिस को तहरीर देकर मुकदमा दर्ज कराए जाने की मांग की है।

कोविड-19 पैंडेमिक के चलते लोगों का कारोबार इस कदर प्रभावित हो चुका है कि उन्हें अपना घर चलाना मुश्किल हो गया है। इसके चलते जिले के हजारों लोग अपनी मासिक किस्तें भी नहीं भर पा रहे हैं।

इस पर RBI ने सभी बैंकों और फायनेंस कंपनियों को मई 2022 तक किसी भी आटोलोन पर वाहनों को सीज करने की मनाही के लिए सख्त दिशानिर्देश जारी किए हैं,क्योंकि अगर ग्राहकों के कमर्शियल वाहन सीज कर दिए जाएंगे तो उनकी आय के सभी स्रोत पूर्णतः समाप्त हो जाएंगे और भूखों मरने की स्थिति उत्पन्न हो जाएगी।

प्राप्त जानकारी के अनुसार RBI की इस गाइडलाइन को जिले की कुछ फायनेंस कंपनी ताक पर रखकर कार्य कर रही हैं।

ताजा प्रकरण यह है कि मूरतगंज के व्यापारी शिवम केशरवानी की ओमनी वैन की चार किस्तें कोविड-19 पैंडेमिक के कारण जमा नहीं हो पायीं तो कल 17 जनवरी को मंदर मोड के पास सूनसान जगह पर महिंद्रा फाइनेंसर कंपनी के चार युवकों ने मार पीट करके व्यापारी से 25,000 रुपयों से भरा बैग और उसकी ओमनी वैन छीन ली।

बाद में महिन्द्रा फायनेंस के रिकवरी एजेंट रमेश चंद्र से वैन की सीजर की जानकारी मिली तो व्यापारी ने महिंद्रा फायनेंस और उसके चारों अज्ञात रिकवरी एजेंटों फाइनेंस कंपनी के कथित गुंडों के खिलाफ बिना किसी पूर्व नोटिस के वैन को रास्ते से छीन लेने,उसके साथ अभद्रता और मार पीट करके 25,000 रुपये लूट लेने की तहरीर थाना कोखराज में दे दी है। थाना प्रभारी द्वारा इस संदर्भ में जांच पड़ताल कर मुकदमा पंजीकृत करने का आश्वासन दिया गया है।

Comments are closed.