फ्रंटलाइन वर्कर के साथ अन्य को भी कोविड वैक्सीन की बूस्टर डोज देने पर विचार कर रही सरकार

-शिक्षा, रोजगार, खेल और आधिकारिक या व्यावसायिक प्रतिबद्धताओं के बाबत विदेश यात्रा करने वालों को मिल सकती है कोविड वैक्सीन की सतर्कता डोज

नई दिल्ली। केंद्र सरकार जल्द ही पढ़ाई, नौकरी, खेल और आधिकारिक या व्यापारिक कार्यो के लिए विदेश जाने के इच्छुक लोगों को बूस्टर डोज/सतर्कता डोज लगाने की अनुमति दे सकती है। गौरतलब है कि देश में फिलहाल स्वास्थ्य कर्मियों और फ्रंटलाइन वर्कर के साथ 60 साल से अधिक उम्र के लोगों को ही सतर्कता डोज लगाई जा रही है। इसके अलावा विदेश जाने वाले यात्रियों को निजी टीका केंद्रों पर अपने खर्च पर बूस्टर डोज लगवाने की अनुमति देने के प्रस्ताव पर भी विचार किया जा रहा है।

दरअसल, रविवार से नियमित अंतरराष्ट्रीय उड़ानें शुरू हो रही हैं। हाल ही में उड्डयन मंत्रालय ने इस बात का उल्लेख किया था कि कुछ देशों में यात्रा के लिए कोविड रोधी तीसरी डोज या बूस्टर डोज लेने की बाध्यता का नियम है जो आवश्यक कार्यो से बाहर जाने वाले भारतीय यात्रियों को प्रभावित कर रहा है। यह भी पता चला है कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को रोजगार, शिक्षा, या आधिकारिक/ व्यावसायिक प्रतिबद्धताओं इत्यादि के सिलसिले में विदेश यात्रा करने के इच्छुक लोगों को एहतियाती डोज लेने की अनुमति देने के अनुरोध मिले हैं।

एक अधिकारी ने बताया कि इसको देखते हुए मंत्रालय उपरोक्त कार्यो के सिलसिले में विदेश जाने वालों को बूस्टर/सतर्कता डोज लगवाने की अनुमति देने पर गंभीरता से विचार कर रहा है। हालांकि, मंत्रालय की तरफ से अभी तक इसको लेकर कोई आधिकारिक निर्देश नहीं जारी किए गए हैं।

मौजूदा दिशानिर्देशों के अनुसार, डोज की प्राथमिकता और उसके बाद दूसरी डोज प्रशासन की तारीख से नौ महीने पूरे होने पर आधारित होगा। देश भर में टीकाकरण अभियान 16 जनवरी, 2021 को शुरू किया गया था, जिसमें स्वास्थ्य कर्मियों को पहले चरण में टीका लगाया गया था। फ्रंटलाइन वर्कर्स का टीकाकरण पिछले साल 2 फरवरी से शुरू हुआ था।

Comments are closed.