ग्रेटर नोएडा : देश को डिजिटल की तरह बढ़ाने के लिए दादरी तहसील का एक और कदम अब गांव की आबादी की डिटेल होगी डिजिटल

 

रिपोर्ट : नितिन चौधरी

ग्रेटर नोएडा बरौनी विवरण कार्यक्रम डिजिटल एवं भौतिक कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे दादरी विधानसभा से एमएलए के सामने दादरी तहसील में तैनात लेखपालों ने रखी अपनी समस्याएं लेखपालों ने दादरी एमएलए को बताया कि दादरी तहसील में ना तो उनके पास बैठने के लिए कोई जगह और ना ही आज तक उन्हें कोई रूम अलॉट हुए हैं जिसके चलते उनसे मिलने सरकारी काम के चक्कर में आने वाले लोग परेशान होते नजर आते हैं।

5 गांव ऐसे हैं जिनकी सर्वे के साथ-साथ डॉक्यूमेंट तैयार

तो वहीं दूसरी तरफ दादरी तहसील में लगातार लेखपालों की संख्या कम होती जा रही है जिसको बढ़ाने की मांग की इसके साथ ही दादरी एमएलए ने बताया कि बरौनी वितरण कार्यक्रम के दौरान अब जो लोग गांव में रहते हैं उनके पास उनके मकानों के पेपर नहीं है अब उनका भी विवरण आसानी से दादरी तहसील में उपलब्ध किया जा सकता है 57 गांव का सर्वे किया गया है जिनमें से अब तक 52 गांव का सर्वे पूरी तरीके से हो चुका है और उनके डॉक्यूमेंट तैयार किए जा चुके हैं जबकि 5 गांव ऐसे हैं जिनकी सर्वे के साथ-साथ डॉक्यूमेंट तैयार किए जा रहे हैं

गांव में आबादी का भी रिकॉर्ड दादरी तहसील में आसानी से उपलब्ध

ग्रेटर नोएडा दादरी तहसील में दादरी विधानसभा से विधायक तेजपाल नागर और दादरी एसडीएम की अध्यक्षता में घरौली वितरण कार्यक्रम डिजिटल एवं भौतिक कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे इस दौरान दादरी विधायक ने बताया कि अब जिस तरह से खेती की जमीन का रिकॉर्ड दादरी तहसील में उपलब्ध होता था वैसे ही अब गांव में आबादी का भी रिकॉर्ड दादरी तहसील में आसानी से उपलब्ध किया जा सकता है इसके साथ ही गांव में जमीन को लेकर होने वाले आपसी झगड़े भी समाप्त हो जाएंगे दादरी विधायक ने बताया कि दादरी तहसील क्षेत्र में 57 गांव आते हैं जिनमें से 52 गांव का घरोनी वितरण के तहत सर्वे पूरा कर लिया है और आबादी का पूरा रिकॉर्ड बनाकर तैयार कर लिया गया है जबकि 5 गांव ऐसे हैं जिनका सर्वे करने के साथ ही आबादी का विवरण तैयार किया जा रहा है इन 5 गांव का सर्वे भी जल्द पूरा कर इनको भी डिजिटल घरौनी से जोड़ दिया जाएगा।

दादरी तहसील में लेखपालों की संख्या कम

इस दौरान दादरी तहसील में तैनात लेखपाल डिंपल यादव ने दादरी विधायक के सामने अपनी समस्याएं भी रखी लेखपाल का कहना था कि दादरी तहसील में किसी भी लेखपाल को आज तक कोई केबिन नहीं मिल पाया है जिसके चलते जहां पटवारी के सामने दादरी तहसील में बैठने की दिक्कत होती है तो दूसरी तरफ अपने सरकारी कामों से दादरी में तैनात लेखपालों के पास आने वाले लोगों को दिक्कतें होती हैं इसके अलावा दादरी तहसील में लेखपालों की संख्या कम होती जा रही है जिसको बढ़ाने की मांग की गई वहीं विधायक में लेखपालों की समस्याएं सुनकर उनका जल्द निपटारा करने की बात कही।

Comments are closed.