चीन से जारी तनाव के बीच रक्षामंत्री का बड़ा बयान – “सैन्य तैनाती हटाने पर बनी सहमति”

नई दिल्ली : बीत साल से भारत-चीन सीमा पर दोनों देशों के बीच जारी तनाव अब ख़त्म होता नज़र आ रहा है. जी हाँ, सीमा पर दोनों देशों देशों के सेना के बीच जारी टकराहट के मद्देनज़र देश के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने बड़ा बयान दिया है. रक्षामंत्री के मुताबिक दोनों देशों के बीच सीमा से सैन्य तैनाती हटाने को लेकर सहमति बन गई है.

दरअसल राजनाथ सिंह ने ये बातें राज्यसभा में अपने भाषण के दौरान कही. उन्होंने कहा कि पेंगोग लेक क्षेत्र में चीन के साथ सेनाओं के पीछे हटाने का जो समझौता हुआ है, उसके अनुसार, दोनों पक्ष एलएसी पर आगे की सैन्य तैनाती को पीछे हटाएंगे. उन्होंने कहा कि मैं इस सदन को आश्वस्त करना चाहता हूं कि इस बातचीत में हमने कुछ भी खोया नहीं है. सदन को यह जानकारी भी देना चाहता हूं कि अभी भी एलएसी पर गश्त करने के बारे में कुछ मुद्दे बचे हैं. आगे की बातचीत में इन मुद्दों को सुलझाने पर ध्यान रहेगा.

रक्षा मंत्री ने कहा कि पिछले वर्ष मैंने इस सदन को अवगत कराया था कि एलएसी के आस-पास पूर्वी लद्दाख में कई क्षेत्रों में तनावपूर्ण स्थिति बन गई है. हमारे सशस्त्र सेनाओं द्वारा भी भारत की सुरक्षा की दृष्टि पर्याप्त तथा effective counter deployment किए गए हैं. राजनाथ सिंह ने कहा कि मुझे यह बताते हुए गर्व महसूस हो रहा है कि भारतीय सेनाओं ने इन सभी चुनौतियों का डट कर सामना किया है तथा अपने शौर्य एवं बहादुरी का परिचय पेगोंग त्सो के दक्षिण एवं उत्तरी किनारे पर दिया है.

पूर्वी लद्दाख में वर्तमान स्थिति पर बोलते हुए रक्षा मंत्री ने कहा कि हम नियंत्रण रेखा ( एलएसी) पर शांतिपूर्ण स्थिति बनाए रखने के लिए प्रतिबद्ध हैं. भारत ने हमेशा द्विपक्षीय संबंधों को बनाए रखने पर जोर दिया है. रक्षा मंत्री ने कहा कि एलएसी पर शांति में किसी प्रकार की प्रतिकूल स्थिति का हमारी द्विपक्षीय संबंध पर बुरा असर पड़ता है. कई उच्च स्तरीय संयुक्त बयान में भी यह जिक्र किया गया है कि एलएसी तथा सीमाओं पर शांति कायम रखना द्विपक्षीय संबंधों के लिए अत्यंत आवश्यक है.

Leave A Reply