जन्मदिन विशेष: जब हेमा मालिनी पर नजर रखने के लिए शूट पर साथ जाते थे पिता

-एक इंटरव्यू के दौरान हेमा मालिनी ने शेयर किया था अपने पिता और धर्मेंद्र से जुड़ा किस्सा

नई दिल्ली। बॉलीवुड की ड्रीम गर्ल हेमा मालिनी और धर्मेंद्र की लव स्टोरी के किस्से उनकी शादी के बाद भी मशहूर हैं। फिल्म शोले के दौरान उनकी आशिकी के किस्से उन दिनों अखबार और मैग्जीन की सुर्खियों में छाए रहते थे जिन्हें लोग चटखारे ले लेकर पढ़ते थे। ऐसा ही एक मजेदार किस्सा आज हेमा मालिनी के जन्मदिन (16 अक्टूबर) पर साझा कर रहे हैं जो उन्होंने खुद एक इंटरव्यू में बताया था।

हेमा मालिनी के मुताबिक जब धर्मेंद्र और उन के बीच प्यार पनपा तो हेमा के पिता इसके खिलाफ थे। वो नहीं चाहते थे कि हेमा मालिनी, अभिनेता धर्मेंद्र से मिलें और उनके करीब जाएं। इसी के चलते जब हेमा मालिनी शूटिंग पर होती थीं तो उनके परिवार का कोई न कोई सदस्य शूटिंग पर मौजूद रहता था। कई बार तो उनके पिता ही शूट पर पहुंच जाते थे। उन पर पहरा लगा दिया जाता था और दोनों के मिलने पर पाबंदी लगी होती थी। हर वक्त हेमा मालिनी पर नजर रखी जाती थी ताकि वह किसी भी तरह से धर्मेंद्र के संपर्क में न आ सकें।

शूटिंग में परिवार वाले होते थे साथ
हेमा मालिनी उन दिनों बड़ा नाम बन चुकी थीं। लिहाजा, परिवार वाले नहीं चाहते थे कि उनकी बेटी का नाम पहले से शादीशुदा धर्मेंद्र के साथ जुड़े। इसलिए अक्सर शूटिंग के दौरान उनकी मां और आंटी दोनों आ जाती थीं।

पिता रखते थे खास नजर
घर वालों को जब हेमा मालिनी के रिश्ते के बारे में पता चला तो उनके पिता उनपर नजर रखने लगे। घर पर आने वाले तमाम फोन से लेकर शूट पर भी वह अचानक पहुंच जाते थे। हेमा ने एक इंटरव्यू में बताया था कि शोले के एक गाने की शूटिंग के दौरान उनके पिता अचानक ही पहुंच गए थे ताकि वह धर्मेंद्र के करीब न आ सकें।

कार में भी रहते थे साथ
हेमा मालिनी ने बताया कि अक्सर शूटिंग के दौरान या खत्म होने के बाद मेरे पिता तुरंत कार में साथ बैठ जाते थे। ताकि मैं धर्मेंद्र के साथ कार में ट्रेवल ना कर सकूं। वह अक्सर कार की आगे वाली सीट पर जाकर पहले ही बैठ जाते थे।

लाख कोशिशों के बाद भी नही रुके धर्मेंद्र
1970 के दशक में शादी शुदा धर्मेन्द्र का दिल हेमा मालिनी पर आ गया था। लाख कोशिशों के बाद भी इस जोड़े को अलग नही किया जा सका और 1980 में धर्मेंद्र ने इस्लाम धर्म अपनाकर हेमा से दूसरी शादी कर ली।

Comments are closed.