काम नहीं आया मानसा विधायक मनशाहिया का राहुल गांधी को लिखा पत्र

-टिकट वितरण में कांग्रेस ने किसी तरह का रिस्क नहीं लिया जो टिकट काटे गए, यह बहुत सोच समझ कर काटे गए हैं। हालांकि पहले तय था कि बड़ी संख्या में टिकट काटे जाएंगे मगर अमरिंदर प्रभाव के चलते ऐसा नही किया गया

■मनोज ठाकुर

कांग्रेस ने सिद्धू मूसेवाला को मानसा से टिकट दे दिया है। इसकी अटकले कई दिनों से लगाई जा रही थी। सिद्धू का संसदीय क्षेत्र मनसा है। आम आदमी पार्ट से कांग्रेस में आए नाजर सिंह मनशाहिया को पहले ही इस बात का अंदेशा हो रहा था कि उनका टिकट कट सकता है। इसलिए वह कई दिनों से सक्रिय थे। शुक्रवार को सुबह उन्होंने पार्टी को धमकी दी कि यदि उनका टिकट कटा तो पार्टी छोड़ देंगे। बाद दोपहर उन्होंने राहुल गांधी को एक पत्र लिख कर टिकट देने की मांग भी की।

राहुल को लिखे पत्र में विधायक नजर सिंह मनशाहिया ने कहा है कि मानसा की जनता सिद्धू मूसेवाला के खिलाफ है। विधायक ने अपने पत्र में लिखा है कि अगर सिद्धू मूसेवाला को मानसा से टिकट मिलता है तो इससे कांग्रेस पार्टी को नुकसान हो सकता है, लेकिन उनकी तमाम कोशिश के बाद भी आखिर में उनका टिकट कट गया है।

टिकट कटने पर नजर सिंह ने अभी बात करने से इनकार कर दिया है, लेकिन माना जा रहा है कि वह जल्दी ही पार्टी छोड़ देंगे। उनके समर्थकों ने बताया कि विधायक आज शाम तक बैठक बुला कर इसका ऐलान भी कर देंगे। सोनू सूद की बहन मालविका को मोगा से कांग्रेस ने अपना उम्मीदवार बनाया है। यहां से पहले हरजोत कंवल थे। इनका टिकट कट गया है। यह बागी हो सकते हैं।

इनका टिकट कट गया

श्री हरगोबिंदपुर से बलविंद्र सिंह लाड़ी की भी टिकट कट गई। यह कांग्रेस छोड़ बीजेपी चले गए थे, लेकिन पांच दिन बाद ही वापस भी आ गए थे। मुकेरिया से रजनीश कुमार बपगी की टिकट काट कर इसकी जगह इंदू बाला को टिकट दिया गया है। फाजिल्का के बल्लूआना में नाथू राम की टिकट काट कर उनकी जगह राजेंद्र कौर को टिकट दिया गया है। मलोट से विधायक व विधानसभा के उपसभापति अजायब सिंह की टिकट काट कर बठिंडा देहात से आप की विधायक रूपिंद्र कोर रूबी को टिकट दे दी गई। उन्होंने कुछ दिन पहले ही कांग्रेस ज्वाइन की थी।

यह बदलाव किए गए

अबोहर में सुनील जाखड़ की जगह उनके बेटे संदीप जाखड़ को इस बार कांग्रेस ने अपना उम्मीदवार बनाया है। पटियाला देहात से ब्रह्मइ्द्रा की जगह उनके बेेटे मोहित को टिकट दी । इसके पीछे तर्क दिया गया कि पार्टी में युवा चेहरों को जगह दी जा रही है।गुरदासपुर की कादियां सीट से प्रताप सिंह बाजवा को टिकट दी गई है। वह राज्यसभा के सांसद है। पिछली बार इस सीट पर उनके छोटे भाई फतेह चंद बाजवा विधायक थे। वह भाजपा में शामिल हो गए हैं।

किसी तरह का रिस्क नहीं लिया कांग्रेस ने

टिकट वितरण में कांग्रेस ने किसी तरह का रिस्क नहीं लिया है। जो टिकट काटे गए, यह बहुत सोच समझ कर काटे हैं। हालांकि पहले तय था कि बड़ी संख्या में टिकट कट सकते हैं। इसकी तैयारी भी कर ली गई थी, लेकिन ऐन मौके पर इसे टाल दिया गया। वजह यह है कि यदि इन्हें टिकट नहीं दिया तो टिकट कटने से नाराज विधायक कैप्टन की ओर जा सकते हैं। वहां वह भले ही जीते या हारे, लेकिन इससे कांग्रेस का वोट बैंक प्रभावित हो सकता है।

चन्नी सिर्फ चमकोर साहिब से लड़ेंगे

पहले संभावना जताई जा रही थी कि कांग्रेस सीएम चरणजीत सिंह चन्नी दो जगह से चुनाव लड़ सकते हैं। पहली लिस्ट में चन्नी को चमकौर साहिब से टिकट दिया गया है। दूसरी जगह से उनके चुनाव लड़ने की संभावना न के बराबर है। चन्नी ने कहा कि उनके विरोधी इस तरह का प्रचार कर रहे थे, कि चमकोर में उनकी स्थिति ठीक नहीं है। लेकिन उन्हें यकीन है कि मतदाता उन्हें पसंद कर रहे हैं। वह यहां से जीत हासिल करेंगे।

पहली लिस्ट से लग रहा है कि कांग्रेस ने खूब होमवर्क किया है

जिस तरह से कांग्रेस में उठा- पटक चल रही थी। कभी लिस्ट लटक रही थी। इसे लेकर तरह तरह के कयास लगाए जा रहे थे। कभी बोला जा रहा था कि सिद्धू व चन्नी में उम्मीदवारों को लेकर एक राय नहीं है। सिद्धू अपने समर्थकों को ज्यादा टिकट दिलाना चाहते हैं। लेकिन पहली लिस्ट से पता चल रहा है कि कांग्रेस ने उम्मीदवारों के चयन पर खासा काम किया है। जो नाम दिए गए हैं, यह मजबूत स्थिति में हैं। जो विपक्षी उम्मीदवार को अच्छी खासी टक्कर दे सकते हैं।

Comments are closed.