हरियाणा सरकार ने व्यवस्था परिवर्तन के अनेक कार्य किए और अन्य राज्य भी इनका अनुसरण कर रहे हैं – मनोहर लाल

पंचकूला में द गवर्नेंसचैलेंज (टीजीसी) के फाइनलराउंड सम्मेलन का हुआ आयोजन . मुख्यमंत्री ने विजेता टीम को 5 लाख रुपये की राशि का चेक देकर किया सम्मानित

रिपोर्ट: कोमल रमोला /
पंचकूला, 1 अक्तूबर – पंचकूला में पीडब्ल्यूडी विश्राम गृह में द गवर्नेंसचैलेंज (टीजीसी) के फाइनलराउंड सम्मेलन का आयोजन किया गया, जिसमें 6 फाइनलिस्ट टीमों ने हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल के सामने अपने समाधान प्रस्तुत किए। टीजीसी सम्मेलन में एनएमआईएमएस मुंबई टीजीसी 2022 के पहले संस्करण की विजेता बनी। मुख्यमंत्री ने विजेता टीम को ट्रॉफी, सर्टिफिकेट और 5 लाख रुपये की राशि का चैक देकर उनको स्ममानित किया। इसी प्रकार, दूसरे स्थान पर रही आईआईएमबैंगलोर की टीम को ट्रॉफी, सर्टिफिकेट और 3 लाख रुपये की राशि का चैक तथा तृतीय स्थान पर रही आईआईएमकोझीकोड की टीम को ट्रॉफी, सर्टिफिकेट और 1 लाख रुपये की राशि का चैक मुख्यमंत्री ने सौंपा। इस अवसर पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि इस प्रकार का कार्यक्रम न केवल हरियाणा बल्कि अन्य राज्यों, देश व दुनिया के लिए भी अत्यंत महत्वपूर्ण है, क्योंकि आज गवर्नेंस एक व्यापक विषय बन चुका है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2014 में जब उन्होंने मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली थी तब यह कहा जाता था कि उन्हें मुख्यमंत्री के कार्य का अनुभव नहीं है। श्री मनोहर लाल ने कहा कि हमें जनता की भलाई करने का, सुविधाजनक सिस्टम बनाने का अनुभव अवश्य था। उसी वर्ष 25 दिसंबर को सुशासन दिवस के रूप में मनाने का संकल्प लिया और एक नई पहल करते हुए सीएमविंडो की शुरुआत की। जिसके आज सकारात्मक परिणाम आ रहे हैं। पिछले 8 वर्षों में सीएमविंडो पर लगभग 10 लाख से अधिक शिकायतें प्राप्त हुई, जिनमें से 90 प्रतिशत शिकायतों का समाधान हुआ है। अब आमजन अपनी समस्याओं को घर बैठे ही केवल ऑनलाइन सिस्टम के माध्यम से अपनी बात सरकार तक पहुंचा सकता है। मनोहर लाल ने कहा कि किसी भी व्यक्ति की मूलभूत आवश्यकता 5एस पर आधारित होती है, यानी- शिक्षा, स्वास्थ्य, सुरक्षा, स्वावलंबन और स्वाभिमान। राज्य सरकार इन्हीं मूलभूत आवश्यकताओं को पूरा करने की दिशा में निरंतर कार्य कर रही है। द गवर्नेंसचैलेंज (टीजीसी) राष्ट्रीय गवर्नेंस के मुद्दों पर आयोजित होने वाली प्रतियोगिता है जिसकी परिकल्पना देश के सबसे प्रतिभाशाली युवाओं को गवर्नेंस के मुद्दों पर शामिल करने के लिए की गई है। हरियाणा सरकार टीजीसी के उद्घाटन संस्करण में पार्टिसिपेटिंग स्टेट के रूप में भागीदार बनी। टीजीसी 2022 में, भारत में 30 बिजनेस और पॉलिसी स्कूलों के छात्रों ने “अगले दशक के बदलते आजीविका अवसरों के लिए हरियाणा के युवाओं के भविष्य को तैयार करना” विषय पर विचार किया। टीजीसी 2022 में कुल तीन राउंड थे। कैंपसराउंड में टीमों ने 3 मिनट का एक्जीक्यूटिवपिचवीडियो और एक पेज का दस्तावेज़ प्रस्तुत किया जिसमें समस्या कथन की अपनी समझ साझा की गई और इसे हल करने के लिए 2-3 नवीन विचारों का प्रस्ताव दिया गया। प्रत्येक परिसर से शीर्ष टीम ने अगले दौर के लिए क्वालीफाई किया। इसमें 2,100 से ज्यादा टीमों के करीब 6,400 प्रतिभागियों ने पंजीकरण करवाया जिनमें से 700 से ज्यादा टीमों ने प्रजेंटेशनसबमिट किया और इनमें 26 टीमें कैंपस विजेता घोषित की गईं।
इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव डॉ अमित अग्रवाल, विदेश सहयोग विभाग के महानिदेशक श्री अनंत प्रकाश पांडे सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहे।

Comments are closed.