Lakhimpur kheri Case update: घटना के वक्त आशीष मिश्रा था घटनास्थल के आस पास? मोबाइल लोकेशन पर टिकी अब पुलिस की जाँच

Lakhimpur kheri violence : लखीमपुर खीरी हिंसा में मारे गए लोगों का मुख्य आरोपी अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा को बताया गया। कुछ फुटेज के आधार पर और लोगों के बयान को सुनते हुए पुलिस ने आशीष मिश्रा के खिलाफ केस दर्ज किया था और  थोड़ी पूछताछ के बाद मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया। परंतु पुरी पूछताछ के दौरान आशीष मिश्रा का एटीट्यूड बहुत ही गन्दा रहा उसने किसी भी सवाल का प्रॉपर जवाब नहीं दिया कुछ क्वेश्चन को यु ही इधर उधर की बात कर टाल दे रहा था या फिर चुप्पी साध ले रहा था।

 14 दिन की पुलिस कस्टडी में सौंपा गया था आशीष मिश्रा

बिल्कुल नॉन कोऑपरेटिव बेहेवियर के चलते पुलिस ने मजिस्ट्रेट से आगरा किया था कि आशीष मिश्रा को 14 दिन की पुलिस कस्टडी में वापस सौपा  जाए ताकि पुलिस को सबूत इकट्ठा करने में मदद मिले।

बीते दिनों आशीष मिश्रा को लेकर पुलिस घटनास्थल पर पहुंची थी जहां पर पिनकोड के लिए किया गया था।

मोबाइल लोकेशन का एंगल

देखा जाए तो पुलिस पूरी जी जान से आशीष मिश्रा जांच की कर रही है, अब पुलिस में सोचा है कि वह मोबाइल वाले अंकल से जांच पड़ताल करेंगे अब वह चेक करेंगे कि घटना के वक्त आशीष मिश्रा का मोबाइल कहां का लोकेशन शो कर रहा है। मामले की जांच कर रही टीम ने मोबाइल टावर का डाटा खंगालना शुरू कर दिया है. मोबाइल के सहारे आशीष मिश्रा की घटनास्थल पर मौजूदगी की जांच के लिए जांच कमेटी ने मोबाइल टावर के बीटीएस यानी बेस ट्रांसीवर स्टेशन को खंगालना शुरू किया. बलबीरपुर गांव जहां वीवीआईपी कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा था. वहां पर आशीष मिश्रा की मौजूदगी सुनिश्चित कराने के लिए गांव के बीटीएस टावर और तिकुनिया में घटनास्थल के बीटीएस टावर को खंगाला जा रहा है.

 

किसी भी बीटीएस में एक्टिव मोबाइल कहां पर किस दिशा में एक्टिव है यह आसानी से पता लगाया जा सकता है. वहीं दूसरी तरफ कंसेट्रेशन ऑफ सिग्नल से पता लगाया जाता है कि उस मोबाइल टावर से मोबाइल कितना दूर था. यानी मोबाइल टावर के नजदीक ज्यादा सिग्नल होंगे और दूर होने पर कमजोर सिग्नल हो जाएंगे. हर मोबाइल टावर के बीटीएस की अपनी-अलग आईडी होती है.

अब बस कुछ दिनों की बात है जब आशीष मिश्रा गुनहगार है या नहीं यह साबित हो जाएगा हालांकि अब तक मिले फूटेज और गवाहों के आधार पर आशीष मिश्रा थार गाड़ी में था जिस गाड़ी में किसानों को कुचला। इसके अलावा आशीष मिश्रा का रूड बिहेवियर जो पुलिस से जांच पड़ताल के वक्त सामने आया जब आशीष मिश्रा ने किसी भी सवाल का ढंग से जवाब नहीं दिया। यह सब बातें इशारा करते हैं कि आशीष मिश्रा घटनास्थल पर मौजूद था और वह खुद को बचाने की कोशिश कर रहा है।

 

Comments are closed.