लश्कर-ए-तैयबा का कमांडर शेख सज्जाद आतंकी घोषित, गृह मंत्रालय ने जारी की अधिसूचना

-अवैध हथियारों की रिकवरी मामले में फरार होने के साथ एक पत्रकार की हत्या के मामले में रहा है शामिल

नई दिल्ली। देश में आतंकी वारदातों के लिए जिम्मेदार संगठन ‘लश्कर-ए-तैयबा’ के कमांडर शेख सज्जाद उर्फ सज्जाद गुल को गृह मंत्रालय ने मंगलवार को आतंकी करार दिया है। यह फैसला गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम (UAPA) 1967 के तहत लिया गया है जिसका एलान गैजेट नोटिफिकेशन के जरिए किया गया है। इसमें बताया गया है कि सज्जाद जम्मू कश्मीर के युवाओं को लश्कर-ए-तैयबा में शामिल करने से जुड़े कृत्यों में शामिल रहा है। इसमें सज्जाद को जम्मू कश्मीर में अवैध हथियारों की रिकवरी मामले में फरार आतंकी बताया गया है। सज्जाद शेख 14 जून 2018 को श्रीनगर के बिजी प्रेस एन्क्लेव इलाके में एक पत्रकार की हत्या के मामले में भी शामिल रहा है। सज्जाद शेख के साथ इस घटना में कई और आतंकी भी शामिल थे।

इसके पहले मंत्रालय ने UAPA 1967 के तहत मुश्ताक अहमद जरगर को आतंकी करार दिया था। जरगर आतंकी गिरोह ‘अलउमर मुजाहिद्दीन’ का फाउंडर और चीफ कमांडर है। जरगर साल 1999 में अफगानिस्तान के कंधार में हुए भारतीय एयरलाइंस के एक विमान हाइजैकिंग मामले में शामिल था। 24 दिसंबर, 1999 को नेपाल के काठमांडू से नई दिल्ली के लिए उड़ान भरने वाले इंडियन एयरलाइंस के विमान (उड़ान संख्या आइसी-814) को हाईजैक कर अफगानिस्तान के कंधार ले जाया गया था। जरगर से पहले केंद्र ने 26/11 मुंबई आतंकी हमला मामले के मास्टरमाइंड और लश्कर-ए-तैयबा के फाउंडर हाफिज सईद का बेटा हाफिज ताल्हा सईद को आतंकी घोषित कर दिया था।

कुछ दिनों पहले ही दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट ने जम्मू- कश्मीर में आतंकवादी और अलगाववादी गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए UAPA की विभिन्न धाराओं के तहत लश्कर-ए-तैयबा के संस्थापक हाफिज सईद और हिजबुल मुजाहिदीन प्रमुख सैयद सलाहुद्दीन, यासीन मलिक, शब्बीर शाह, मसरत आलम और अन्य के खिलाफ आरोप तय करने का आदेश दिया था।

Comments are closed.