माँ चंद्रघंटा देवी व कुष्मांडा देवी के स्वरूपों की पूजा-अर्चना

-भक्तों की सुविधा के लिए मंदिर मे डिस्पेंसरी, और एम्बुलेंस की भी व्यवस्था की गई हैं।

नई दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी स्थित प्राचीन शक्तिपीठ झंडेवाला देवी मंदिर मे शारदीय नवरात्र के तीसरे दिन माँ भगवती के तीसरे व चौथे स्वरूपों “माँ चंद्रघंटा” व “माँ कुष्मांडा” की पूजा-अर्चना पूर्ण विधि-विधान के साथ की गई। माँ चंद्रघंटा व माँ कुष्मांडा भक्तों की सभी कामनायें पूर्ण करती हैं l

झंडेवाला देवी मंदिर द्वारा मंदिर में होने वाले सभी कार्यक्रमों का सीधा प्रसारण यूट्यूब चैनल पर किया जाता है। देश विदेश के टी.वी. चैनलों के प्रतिनिधि भी इस महोत्सव का सीधा प्रसारण करते हैं जिसे देश विदेश में रहने वाले करोड़ो भक्त अपने घर मे बैठकर अपने टेलीविज़न द्वारा देख सकते हैं। मंदिर के प्रचार व प्रसार विभाग द्वारा प्रतिदिन कार्यक्रमों की गतिविधियो की सूचना समाचार पत्रों को भेजी जाती हैं।

इस का पूरा प्रबंधन मंदिर के प्रचार-प्रसार विभाग के सेवादारो द्वारा किया जाता है। भक्तों की सुविधा के लिए मंदिर मे डिस्पेंसरी, और एम्बुलेंस की भी व्यवस्था की गई हैं। डिस्पेंसरी में एलोपेथी, होम्योपैथी, प्राकृतिक एंव आयुर्वेदिक चिकित्सा की व्यवस्था की गई हैं।

भक्तो की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए मंदिर परिसर में 150 सी सी टी वी कैमरे लगाये गये हैं जिस से असमाजिक तत्वों पर नजर रखी जा सके। इस के लिये एक कंट्रोल रूम है जहां से मंदिर के सुरक्षा विभाग व दिल्ली पुलिस द्वारा मंदिर परिसर मकी निगरानी की जाती है ।

बद्री भक्त वेद विद्यालय, मंडोली के छात्रों द्वारा प्रात व सायं वेद मंत्रों का सस्वर उच्चारण किया गया व विभिन्न भजन मंडलियो द्वारा भजन-कीर्तन किया गया जिनका सीधा प्रसारण झंडेवाला देवी मंदिर यूट्यूब चैनल पर किया गया। भक्त मंदिर में आन-लाईन दर्शन के लिये बुकिंग करवा सकते है। उस की जानकारी मंदिर से प्राप्त कर सकते हैं। मंदिर प्रबंधन समिति के सचिव कुलभूषण ने बताया कि कल (रविवार) चौथे दिन माँ के पांचवें स्वरूप माँ स्कन्दमाता देवी जी की पूजा – अर्चना की जायेगी।

Comments are closed.