मारपीट से घायल युवक की मौत से नाराज परिजनों ने शव जलाने से किया इनकार, प्रशासन के फूले हाथ-पांव

-मृतक के परिजनों को -चार लाख मुआवजा देने के एसडीएम के आश्वासन पर हुआ अंतिम संस्कार

जौनपुर/शाहगंज, (प्रणय तिवारी)। सरपतहां थाना क्षेत्र के अरसियां गांव में दबंगों की पिटाई से मृत राजेंद्र राजभर के परिजनों ने पोस्टमार्टम के बाद बुधवार को शव का अंतिम संस्कार करने से मना कर दिया। परिजनों की मांग थी कि दबंगों के खिलाफ कार्रवाई हो और हमें शासन स्तर से उचित मुआवजा दिया जाए।

यह खबर जब तहसील प्रशासन को लगी तो उसके हाथ पांव फूल गए।आनन-फानन में एसडीएम शाहगंज भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे , घंटों मिन्नत और आश्वासन के बाद ग्रामीण अंतिम संस्कार के लिए मान गये।

दरअसल, सोमवार रात राजेंद्र राजभर की उसके साथी जगदीश उर्फ जग्गा विश्वकर्मा व सभाजीत यादव ने लाठी-डंडे से पिटाई कर दी थी। मंगलवार सुबह शाहगंज स्थित एक निजी अस्पताल में उसकी इलाज के दौरान मौत हो गई। पुलिस ने राजेंद्र की पत्नी की तहरीर पर दोनों आरोपियों के खिलाफ गैरइरादतन हत्या का मुकदमा दर्ज किया था। मंगलवार शाम पोस्टमार्टम के बाद शव जब घर पहुंचा तो स्वजन मुआवजे की मांग पर अड़ गए।

बुधवार दोपहर सूचना पाकर मौके पर पहुंचे एसडीएम राजेश कुमार वर्मा ने मृतक के परिजनों ने किसान बीमा व राष्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना के तहत कुल मिलाकर चार लाख बीस हजार रुपए दिलाने का आश्वासन दिया। इसके बाद परिजन माने और शव का अंतिम संस्कार किया।

Comments are closed.