मथुरा: नेशनल डॉक्टर डे पर स्कूली बच्चों ने डॉ संजय अग्रवाल को किया सम्मानित

मथुरा: नेशनल डॉक्टर डे पर स्कूली बच्चों ने डॉ संजय अग्रवाल को किया सम्मानित

नगर संवाददाता

मथुरा–कहते है डॉक्टर भगवान का दूसरा रूप हैं और यह साबित कर दिखाया कोविड के समय ने, जहां महामारी ने दुनियाभर में कोहराम मचा कर रख दिया था उस संकट के दौर में चिकित्सक ही थे जो अपने परिवार को छोड़कर मौत को हथेली पर रख कर दिन रात लोगों की सेवा में जुटे रहे।

आरएस स्टोन किडनी और लेजर हॉस्पिटल में स्कूली बच्चों ने की विजिट

मथुरा के प्रसिद्ध आरएस स्टोन किडनी और लेजर हॉस्पिटल में स्कूली बच्चों ने की विजिट की और डॉक्टर संजय अग्रवाल को बुके और प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया।इस दौरान स्कूली बच्चों ने डॉक्टरों द्वारा किये गए कोविड के कार्यकाल की सराहना करते हुए कहा कि हमारा परिवार आज सुरक्षित है उसका डॉक्टरों को श्रेय जाता है।

डॉक्टर बनने के लिए बच्चों ने जाने गुण

रोमेक्स स्कूल के बच्चों ने मथुरा शहर के प्रशिद्ध डॉक्टर संजय अग्रवाल को अपनी मेडिकल साइंस में रुचि बताते हुए है उनसे अपने भविष्य के चिकित्सक के रूप में कार्य करने के लिए गुण सीखे। डॉ. संजय अग्रवाल ने कहा कि सबसे पहले डॉक्टर का दायित्व समर्पण भाव का होना चाहिए।डॉक्टर के लिए अपने मरीज से ज्यादा कुछ नही होता।वह पहले मरीज के लिए खड़ा है उसके बाद परिवार है।इसलिए हर डॉक्टर का पहला कर्म सेवा होता है।

नर सेवा नारायण सेवा से होगा सपना साकार–डॉ संजय अग्रवाल

स्कूली बच्चों ने डॉक्टर्स का स्वागत सम्मान किया साथ ही नेशनल डॉक्टर्स डे की शुभकामनाएं दी।बच्चों ने कहा कि हमको भी उनके जैसा बनना है इसलिए वह मेहनत करेंगे।डॉ संजय अग्रवाल ने कहा कि ,नर सेवा ही नारायण सेवा है।

Comments are closed.