दीदी अपने साथ ले जाती तो बच जाती मासूम की जान

एनडीआरएफ के 18 घंटे आॅपरेशन के बाद मिला नाले में गिरे छह साल के बच्चे का शव

नोएडा। सेक्टर-81 के सलारपुर गांव के पास से होकर गुजर रहे नाले में सोमवार को छह वर्षीय बच्चा खेलते समय अचानक गिर गया। सूचना पाकर मौके पर पहुंची थाना सेक्टर-39 और फेज-दो की पुलिस के साथ ही फायर ब्रिगेड के कर्मचारियों ने बच्चे की तलाश शुरू की, लेकिन सात घंटे की तलाश के बाद भी सफलता नहीं मिला। आखिर, शाम होने पर एनडीआरएफ की टीम को बुलाया गया। मंगलवार की सुबह बच्चे के शव को ढूंढने में सफलता मिली। अगर बच्चे की बात उसकी दीदी मान लेती तो शायद उसका भाई सलामत होता।

मूलरूप से मुरादनगर, गाजियाबाद निवासी अशोक सलारपुर खादर गांव में परिवार के साथ रहते हैं। वह निजी कंपनी में नौकरी करते हैं। उनका छह साल का बेटा सौरभ सोमवार को चार-पांच बच्चों के साथ गांव के बाहर सेक्टर 81 से गुजर रहे नाले के पास खेल रहा था। दोपहर करीब 3 बजे वह खेलने के दौरान अचानक नाले में गिर गया। नाले में गिरते देख उसके साथ खेल रहे अन्य बच्चे उसे बचाने के लिए आगे बढ़े, लेकिन नाला गहरा होने के कारण सभी ने खुद को असहाय पाया। इसके बाद उन बच्चों ने शोर मचा कर आसपास के लोगों को बुला लिया। लगभग 12 फीट गहरे नाले में पानी का बहाव तेज है। नाले की तली में गाद जमी हुई है। मौके पर जमा लोगों ने बच्चे को नाले में बहते हुए देखा, लेकिन किसी ने उसे बचाने की हिम्मत नहीं जुटाई। इस हादसे से बेजार सौरभ की बहन ने बताया कि वह सिलाई सीखने जा रही थी। सौरभ ने उसके साथ जाने की जिद की, लेकिन वह साथ नहीं ले गई। उसके बाद वह अपने साथ के बच्चों के साथ नाले के पास खेलने लगा और यह हादसा हो गया।

कोतवाली सेक्टर 39 के प्रभारी इंस्पेक्टर प्रशांत कपिल का कहना है कि सूचना मिलने पर उन्हें पुलिस टीम के साथ मौके पर पहुंचने में करीब 25 मिनट लग गए। इसके बाद पुलिसकर्मी नाले में उतरे और बच्चे की तलाश शुरू की, लेकिन उसका पता नहीं चल सका। काफी दूर तक तलाश के बाद भी सफलता नहीं मिलने पर एनडीआरएफ को सूचना दी गई। गाजियाबाद से एनडीआरएफ टीम को पहुंचने में शाम के करीब 7 बजे गए। लगभग दो किमी तक नाले में बच्चे की तलाश की गई, लेकिन सफलता नहीं मिली। आखिर, मंगलवार की सुबह एनडीआरएफ और दमकल कर्मचारियों ने बच्चे के शव को ढूंढ निकाला। उसका शव घटनास्थल से करीब आधा किलोमीटर दूर मिला।

Leave A Reply