न्यूजीलैंड ने रूस के राष्ट्रपति पुतिन समेत 100 महत्वपूर्ण लोगों पर लगाया प्रतिबंध

रूस के प्रधानमंत्री मिखाइल मिशुस्तिन, रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगु और विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव का नाम भी इस लिस्ट में शामिल है.

रूस और यूक्रेन के बीच लगभग दो हफ्तों से जंग जारी है.  यूक्रेन के अलग-अलग शहरों पर रूस मिसाइलों बमों से हमले कर रहा है. कई लोगों की इस दौरान जान जा चुकी है जबकि यूक्रेन से लाखों की तादाद में लोग पलायन करने पर मजबूर हो गए हैं. इस बीच कई देश रूस से नाराज होकर उसपर प्रतिबंध लगा रहे हैं. न्यूजीलैंड ने अब रूसी राष्ट्रपति पुतिन समेत 100 महत्वपूर्ण लोगों पर प्रतिबंध लगा दिया है. रूस के प्रधानमंत्री मिखाइल मिशुस्तिन, रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगु और विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव का नाम भी इस लिस्ट में शामिल है.

यूक्रेन पर आक्रमण करने पर दुनिया की पांच प्रमुख तकनीकी कंपनियों गूगल (अब अल्फाबेट), एपल, फेसबुक, अमेजन और माइक्रोसॉफ्ट ने रूस के खिलाफ प्रतिबंध लगाने के लिए कदम उठाए हैं. लेकिन यह फैसले अचानक नहीं आए. यूक्रेन ने प्रमुख तकनीकी कंपनियों की उसी तरह पैरवी की है जैसे यूरोपीय संघ, नाटो और अमेरिकी सरकार से उसने सहायता मांगी थी. गूगल ने रूस में अपनी सेवाओं में ऑनलाइन विज्ञापन बेचना भी बंद कर दिया है. वहीं फॉक्सटेल ने ऑस्ट्रेलिया में आरटी को हटा दिया है, लेकिन अभी भी यह यूट्यूब पर लाइवस्ट्रीम में विज्ञापनों के साथ उपलब्ध है. इसका अर्थ है कि आरटी ऑस्ट्रेलिया में विज्ञापन से प्रत्यक्ष आय अर्जित कर सकता है, लेकिन यूट्यूब से कोई विज्ञापन आय नहीं. गूगल सर्च और मैप दोनों रूस में उपलब्ध हैं.

वहीं गूगल से एपल कई कदम आगे निकल चुका है. कंपनी ने रूस में अपने सभी उत्पादों की बिक्री को निलंबित कर दिया है. एपल पे और अन्य सेवाओं को सीमित कर दिया गया है. इसने रूस के बाहर हर जगह एपल ऐप स्टोर से आरटी और स्पुतनिक को भी प्रतिबंधित कर दिया है.

Comments are closed.