हाईराइज सोसाइटी में आग बुझाना अब होगा आसान, 72 मीटर तक अप्रोच करने वाली हाइड्रोलिक को मिली संस्तुति

हाईराइज सोसाइटी में आग बुझाना अब होगा आसान, 72 मीटर तक अप्रोच करने वाली हाइड्रोलिक को मिली संस्तुति

तापमान के मुताबिक आग की ज्यादा घटना होने की आशंका इस साल में अबतक 225 जगह लग चुकी है आग

तेज गर्मी के साथ तापमान में लगातार बढ़ोतरी देखी जा रही है। और दूसरी तरफ़ ये फायर सीजन भी आ चुका है। अग्निशमन विभाग का कहना हैं कि इस साल में अबतक 225 आग की घटना अजग जगह हो चुकी है। वही बताया कि हमारे पास अभी तक सिर्फ 42 मीटर तक अप्रोच करने वाली हाइड्रोलिक थी लेकिन 72 तक अप्रोच करने वाली हाड्रोलिक मशीन की संस्तुति मिल गई है। जो जल्द ही हमारे पास आ जाएगी। जोकि हाइराइज बिल्डिंग में आग बुझाने में एक बड़ी कारगर साबित होगी। फिलहाल हमारी टीम औऱ फायर टेंडर 14 से 20 अप्रैल तक फायर सेफ्टी सप्ताह दिवस के तहत आग की घटनाओं के प्रति लोगों को जागरूक किया जा रहा है।

सोसायटी वासियों ने बताया कि सोसाइटी में फायर सिस्टम के रूल एंड रेगुलेशन होते हैं उनकी मॉनिटरिंग स्थानीय अग्निशमन विभाग करता है फायर डिपार्टमेंट जब मॉनिटरिंग करता है तो उसके अकॉर्डिंग ही सारे बिल्डर रूल्स और रेगुलेशन फॉलो करते हैं और अपनाते हैं वही मेंटेनेंस होना चाहिए साथ ही एक बड़ा सवाल यह है कि जब आप 30 मंजिल 40 मंजिल या 25 स्टोरी बिल्डिंग को पास कर रहे हैं और उसमे लोग रहने आ रहे हैं।

आपके पास नोएडा जैसे शहर में उस हाइट के या तकनीकी के फाइर टेंडर हाइड्रोलिक उस तरीके के नही है जो उस हाइट तक जाकर आग बुझाने में सक्षम हो जहां हाइराइज सोसाइटी में यह आग लगी है। ये अपने आप में बड़ा सवाल है नोएडा में 40 -40 मंजिला इमारत बनी हुई है और बन रही है उनको आप कैसे टैकल करेंगे क्योंकि जब आग लगती है तो बिल्डर के इनबिल्ड सिस्टम होते हैं उनकी तरफ लोगों का ध्यान बहुत कम जाता है, क्योंकि आदमी अपनी जान बचाकर उस समय भागने की सोचता है फाइर टेंडर और हाइड्रोलिक प्लेटफार्म होने चाहिए वह इस तरीके के लेने की जरूरत है

जिससे कि यह कम से कम इतनी ऊंचाई तक पहुंच कर आग पर काबू पा सके लोगों के जानमाल की रक्षा हो सके यह बहुत जरूरी है हमने कई जगह देखा है चाहे महाराष्ट्र मामला हो या दिल्ली का यह फायर टेंडर को पहुंचने में देर हुई या फिर उनकी हाइट वहां तक नहीं थी जहां पर आज लगी हुई थी और नहीं प्रेशर इतना था कि जहां पर आग लगी हो वहां तक प्रेशर पहुंच सके और आग को बुझा सके हमारे यहां जिस तरीके से गर्मी का टेम्परेचर बढ़ रहा है उसी तरह आग लगने की संभावनाएं भी बढ़ रही है इस स्थिति में आप किसी भी अनहोनी को होने की बात को नकार नहीं सकते।

सीएफओ अरुण कुमार सिंह ने बताया कि 14 अप्रैल से 20 अप्रैल तक फायर सेफ्टी सप्ताह दिवस की शुरुआत की गई है जो हर दिन आयोजित की जाता है जो लाइन एंड ऑर्डर ज्वाइंट सीपी लव कुमार के नेतृत्व में हरी झंडी दिखाकर फायर टेंडर गाड़ियों को जागरूकता अभियान के लिए शहर में रवाना किया गया है, दमकल कर्मी द्वारा पंपलेट बांटकर माइक व वाहनों को शहर में घुमा कर लोगों में जागरूकता फैलाई जा रही है। वही 2022 में अबतक कोई छोटी से बड़ी करीब 225 जगह आग की घटना हो चुकी है

जबकि 2021 में करीब 1350 जगह आप की घटना सामने आई थी इस साल पहले की तुलना में तापमान में वृद्धि हुई है जिसके कारण आग की घटनाओं में बढ़ोतरी की संभावना देखी जा रही है पुलिस आयुक्त हाइराइज सोसाइटी, इंडस्ट्री एरिया में आग की घटना को लेकर काफी संवेदनशील है और उनके द्वारा जारी गार्डन और मार्गदर्शन समय-समय पर हमे हैं प्राप्त होता रहता है उनके दिशा निर्देश पर हम सोसायटीओं में एक अभियान चला रहे हैं वहां लगे उपकरणों को व सेफ्टी सिस्टम को चेक करा रहे हैं जो उपकरण कार्यशील नहीं है उसको ठीक कराया जा रहा है।

 

साथ ही बताया कि इसके अतिरिक्त बहुत से लोग के पास फायर के उपकरण हैं खासकर जो पंप हैं ऑटो मोड में नहीं रखते हैं जिसके कारण आग लगती है उस समय पंप को स्टार्ट करने में वक्त जायजा होता है तो इसमें भी हमारा प्रयास है लोगों को हम जागरूक कर रहे हैं कि अपने पंप को ऑटो मोड में रखें फायर सर्विस के पास अभी तक 42 मीटर हाइट तक एप्रोच करने के लिए हाइड्रोलिक प्लेटफार्म है

इसमें भी पुलिस कमिश्नर ने 72 मीटर तक अप्रोच करने वाले हाइड्रोलिक प्लेटफार्म की संस्तुति प्राप्त कर ली है जल्द ही वह खरीद कर जनपद में आ जाएंगे और गाड़ियों में आग लगने की बात को लेकर सीएफओ ने कहा कि वाहन मालिक अपनी गाड़ी की समय समय पर सर्विस कराते रहें और कभी भी अनऑथराइज्ड वर्कशॉप से और मैकेनिक से कुछ अतिरिक्त चीजें ना लगवाए उसके कारण भी शॉर्टकट होकर आग की घटना बढ़ जाती है।

Comments are closed.