ओमिक्रोन एक्स ई वेरिएंट : राजधानी में तेजी से पैर पसार रहा कोरोना, लगाने पड़ सकते हैं कड़े प्रतिबंध

- देश की राजधानी दिल्ली के साथ नोएडा ग्रेटर नोएडा गाजियाबाद और गुरुग्राम-फरीदाबाद में भी कोरोना के मामलों में आ रही है तेजी

नई दिल्ली। वैश्विक महामारी नोवल कोरोना वायरस रोग 2019 (कोविड-19) का ओमिक्रोन XE वैरिएंट देश के अनेक राज्यों में फैलता जा रहा है। इनमें गुजरात और महाराष्ट्र विशेष रूप से शामिल हैं। यह कोरोना सार्स कोव 2 से 10 गुना अधिक संक्रामक भी है। वहीं, कोविड 19 का ओमिक्रोन BA2 वैरिएंट पड़ोसी देश चीन में जमकर कहर बरपा रहा है। लिहाजा, केंद्र सरकार ने दिल्ली सरकार समेत अन्य सभी राज्य सरकारों को कोरोना के बाबत सतर्कता बरतने की एडवायजरी जारी करने के साथ टेस्टिंग बढ़ाने की अपील भी की है।

वहीं, विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, ओमिक्रोन स्ट्रेन के स्पाइक प्रोटीन में 30 से भी अधिक म्यूटेशन हैं, जो अब तक किसी भी वैरिएंट में नहीं थे। ऐसे में यह खतरनाक भी हो सकता है, हालांकि सुखद बात यह है कि अब तक इस वायरस से पीड़ित किसी शख्स की मौत नहीं हुई है।

ये हैं ओमिक्रोन के नए वैरिएंट के लक्षण

थकान
गले में में चुभन
हल्का बुखार
शरीर में दर्द
रात को सोने के दौरान पसीना आना
लगातार सुस्ती
सूखी खांसी

दिल्ली में पाजिटिविटी दर में हो रहा तेजी से इजाफा

दिल्ली-एनसीआर में पिछले 10 दिनों के दौरान बड़ी तेजी से कोरोना वायरस पैर पसार रहा है। आलम यह है दिल्ली-एनसीआर में कोरोना के केस कई गुना बढ़ गए हैं। देश की राजधानी दिल्ली की बात करें तो कोरोना के नए मामले लगातार बढ़ रहे हैं। संक्रमण दर में भी बढ़ोतरी जारी है।

अप्रैल-मई, 2021 जैसी स्थिति न आ जाए

यही हालात रहे तो दिल्ली सरकार कठोर कदम उठाने की कड़ी में कई तरह के प्रतिबंध लगा सकती है, क्योंकि दिल्ली की आबादी बेहद सघन है। कोरोना के मामले दिल्ली में बड़ी तेजी से बढ़ते हैं। अप्रैल-मई, 2021 में डेल्टा ने कहर बरपाया था। हालात खराब हो गए थे, लोग आक्सीजन और वेंटिलेटर के अभाव में जान गंवा बैठे थे। यह स्थिति देशभर में थी।

दिल्ली में शुक्रवार को संक्रमण दर 2.39 प्रतिशत से बढ़कर 3.95 प्रतिशत हो गई। इस वजह से कोरोना के 366 नए मरीज मिले। हालांकि, पिछले 24 घंटे में किसी मरीज की मौत नहीं हुई। इसके साथ ही 209 मरीज ठीक हुए। ऐसा 71 दिन बाद हुआ जब संक्रमण दर चार प्रतिशत के करीब पहुंची है।

इससे पहले तीन फरवरी को संक्रमण दर 4.3 प्रतिशत थी। 24 घंटे में 9 हजार 275 सैंपल की जांच हुई। सक्रिय मरीजों की संख्या बढ़कर एक हजार के पार पहुंच गई है। 1072 सक्रिय मरीजों में से 21 मरीज अस्पताल में भर्ती हैं। इनमें से 11 मरीज आक्सीजन सपोर्ट पर हैं। 685 मरीज होम आइसोलेशन में हैं। कंटेनमेंट जोन की संख्या घटकर 683 रह गई है।

दिल्ली में लगातार बढ़ते कोरोना के मामलों के बीच दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (DDMA) की अहम बैठक आगामी 20 अप्रैल को होगी। उपराज्यपाल अनिल बैजल की अध्यक्षता में होने वाली इस अहम बैठक में अरविंद केजरीवाल के अलावा, सरकार के आला अधिकारी भी शामिल होंगे।

डीडीएमए बैठक में कोरोना वायरस का प्रसार रोकने के उपायों पर विचार किया जाएगा। कयास लगाए जा रहे हैं कि इसी तरह मामला बढ़ते रहे तो अगले एक सप्ताह में कोरोना के रोजाना मामले 1000 के करीब पहुंच जाएंगे। ऐसे में क्या दिल्ली में फिर लाकडाउन जैसे प्रतिबंध लगाए जाएंगे। शुक्रवार को कोविड के 299 नए मामले सामने आए थे और इसमें 118 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी। दिल्ली के स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार, संक्रमण दर 2.49 प्रतिशत हो गई थी।

Comments are closed.