आउटर जिला पुलिस ने तीन कुख्यात लुटेरों को किया गिरफ्तार,कैब ड्राइवर को बनाते थे निशाना

आउटर जिला पुलिस ने तीन कुख्यात लुटेरों को किया गिरफ्तार,कैब ड्राइवर को बनाते थे निशाना

रिपोर्ट: राकेश रावत

आउटर जिला पुलिस ने तीन कुख्यात लुटेरे को गिरफ्तार किया है जो कैब ड्राइवर को अपना शिकार बनाते थे. जिसमें एक निहाल विहार थाना क्षेत्र का बीसी बदमाश भी शामिल है. यह बदमाश कैब को बुक करते थे और फिर उसे गन पॉइंट पर लूट लेते थे. पुलिस को इनके कब्जे से एक देसी पिस्तौल, एक चाकू, मोबाइल और लूटी हुई रकम बरामद की है. पुलिस ने इनके पास से एक लूटी हुई मोटरसाइकिल भी बरामद की है.

डीसीपी आउटर समीर शर्मा ने बताया कि निहाल विहार थाना पुलिस को एक सूचना मिली थी निलोठी एक्सटेंशन के पास लूट की घटना हुई हुई है. जब पुलिस की टीम मौके पर पहुंची तो पीड़ित राजपाल यादव ने बताया कि कि वह कैब ड्राइवर है और किसी ने चंद्र विहार से नई दिल्ली दिल्ली रेलवे स्टेशन के लिए कैब बुक की थी. जब वह चंद्र विहार में पहुंचा तो एक युवक कार में बैठ गया. थोड़ी देर बाद रास्ते से उसने अपने दो दोस्तों को भी कार में बैठा लिया. जैसे ही कैब निलोठी एक्सटेंशन के पास पहुंची एक आदमी ने पिस्टल लगाकर और दूसरे ने चाकू लगाकर मुझे धमकी दी और मेरा सारा कैश और मोबाइल फोन और 2000 लूट कर फरार हो गए.

 

दिनदहाड़े लूट हुई इस घटना से पुलिस ने एक टीम बनाई और जांच में लगाया. जांच टीम ने लगभग 50 से 60 सीसीटीवी कैमरे चेक किए जिसके बाद उनको पता चला कि बदमाश मोटरसाइकिल से फरार हुए हैं. सीसीटीवी देखने के बाद हेड कांस्टेबल देवेंद्र ने उसमें दिख रहे एक युवक को पहचान लिया. जिसकी पहचान पवन उर्फ सागर के रूप में हुई है और वह निहाल विहार थाना इलाके का बीसी बदमाश है जो काफी समय से फरार चल रहा है. पुलिस ने एक गुप्त सूचना के आधार पर पवन को शिवराम पार्क नांगलोई के पास से गिरफ्तार किया. बदमाश की तलाशी लेने पर उनके पास से एक देसी पिस्टल बरामद हुई है. जिसकी पहचान पवन उर्फ सागर सागर के रूप में हुई है और वह निहाल विहार इलाके का घोषित बदमाश है. पूछताछ में पवन ने बताया कि उसने ही इस घटना को अंजाम दिया है और उसके उसके साथी आशु और सुनील भी इसमें शामिल थे. पुलिस टीम ने पवन की निशानदेही पर उसके साथी आशु और सुनील को भी गिरफ्तार कर लिया. सुनील की तलाशी लेने पर उसके पास एक धारदार चाकू बरामद हुआ है.

 

पुलिस ने बताया कि पवन और सुनील काफी अच्छे दोस्त हैं और एक साथ ही इन्होंने क्राइम की कई वारदातों को अंजाम दिया है. वह पहले भी कई क्रिमिनल केस में शामिल रहे हैं. घटना वाली रात तीनों ने ज्यादा शराब पी ली थी जिसके बाद उनको भूख लगी और उन्होंने कैब ड्राइवर को लूट की योजना बनाई. उन्होंने कैब ड्राइवर को बुलाया और नई दिल्ली रेलवे स्टेशन जाने के लिए कहा उसके बाद तीनों ने मिलकर कैब ड्राइवर को पिस्तौल और चाकू दिखाकर लूट लिया और फरार हो गए. पवन निहाल विहार इलाके का बीसी बदमाश है और उसके पिता सुभाष भी इलाके के बीसी बदमाश थे. आशु पर भी हत्या, हत्या के प्रयास स्नैचिंग और सेंधमारी के कई मुकदमे दर्ज हैं. पुलिस ने सभी के खिलाफ मामला दर्ज करके आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है.

 

Comments are closed.