पिछले 40 सालों में पहली बार चरम पर पहुंचा भारत-चीन सीमा विवाद : अमेरिका

-अमेरिकी इंडो-पैसेफिक कमांड के कमांडर एडमिरल जान एक्विलिनो ने अमेरिकी सांसदों के समक्ष जताई चिंता

वाशिंगटन। हिंद-प्रशांत क्षेत्र को लेकर अमेरिकी संसद में आयोजित सत्र के दौरान अमेरिकी इंडो-पैसेफिक कमांड के कमांडर एडमिरल जान एक्विलिनो ने अमेरिकी सांसदों से चर्चा की। साथ ही उन्होंने दौरान भारत-चीन संबंधों पर चिंता भी जताई। एडमिरल ने कहा कि पिछले चार दशकों में भारत और चीन के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा (लाइन आफ एक्चुअल कंट्रोल-एलएसी) पर सबसे अधिक तनाव रहा है।

एडमिरल जान एक्विलिनो का यह बयान 11 मार्च को होने वाली भारत-चीन सेना की उच्चस्तरीय 15वें राउंड की बातचीत से पहले आया है। एक्विलिनो ने कहा कि अक्टूबर, 2021 में चीनी सांसदों ने सीमावर्ती जमीन के संबंध में एक कानून पारित किया था। यह उनकी संप्रभुता और सीमा सुरक्षा में पीएलए की भूमिका बढ़ाने के संबंध में था। यह कानून जनवरी, 2022 से प्रभावी हुआ है। इसमें कहा गया है कि चीन अपने क्षेत्र संबंधी विवाद को दूर करने के लिए सेना का अधिकाधिक उपयोग करेगा। हिंद-प्रशांत सुरक्षा मामलों के सहायक रक्षा मंत्री एली रैटनर ने कहा कि भारत-चीन सीमा (एलएसी) पर अमेरिका की पैनी नजर है। उन्होंने कहा कि चीन से लगे एलएसी पर भारत बड़े मुश्किल हालात का सामना कर रहा है।

Comments are closed.