प्राधिकरण के दफ्तर में बनेगा इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर

ग्रेटर नोएडा से जुड़ी तमाम सेवाएं इस कंट्रोल रूम से इंटीग्रेट हो जाएंगी।

नोएडा: ग्रेटर नोएडा के सभी एंट्री प्वाइंट्स पर आने-जाने वालों पर नजर रखने के लिए प्राधिकरण इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर बनाने की तैयारी कर रहा है। यह कंट्रोल रूम प्राधिकरण के दफ्तर में ही बनेगा। इस पर करीब दो करोड़ रुपए खर्च होने का आकलन है। इसके बन जाने के बाद ग्रेटर नोएडा से जुड़ी तमाम सेवाएं इस कंट्रोल रूम से इंटीग्रेट हो जाएंगी।
ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ नरेंद्र भूषण के निर्देश पर प्राधिकरण दफ्तर तेजी से ई-ऑफिस की तरफ बड़ रहा है। इंटरप्राइज रिसोर्स प्लानिंग (ईआरपी) के जरिए प्राधिकरण को पेपरलेस बनाया जा रहा है। सभी सेवाएं ऑनलाइन की जा रही हैं। स्ट्रीट लाइट हो या फिर सडक़ों का पैच रिपेयर वर्क, सीवर लाइन हो या फिर जलापूर्ति, सभी सेवाओं की जीआईएस (जियोग्राफिकल इनफॉर्मेशन सिस्टम) मैपिंग की जा रही है। कहां पर ग्रीन बेल्ट हैं, कहां पर सार्वजनिक शौचालय है, यह सब जीआईएस मैपिंग का हिस्सा बनते जा रहे हैं, ताकि ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के अधिकारी ऑनलाइन सिस्टम से इन पर पल-पल नजर रख सकें। सीईओ नरेंद्र भूषण के निर्देश पर कंट्रोल रूम में आठ वीडियो वॉल बनेगी, जहां पर ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण की तरफ से शहरवासियों को दी जा रही है। सभी सुविधाओं की अपडेट जानकारी कंट्रोल रूम में बैठे कर्मचारी देंगे।

Comments are closed.