प्राधिकरण एसीईओ ने आईटीएमएस की देखी बारीकियां

-कंट्रोल रूम में बैठकर देखा कैसे होगा ट्रैफिक का संचालन -संबंधित अधिकारियों को दिए गए दिशा निर्देश

नोएडा: शहर में कैमरों के जरिए ट्रैफिक को कंट्रोल किया जा रहा है। इसको आईटीएमएस इंटिग्रेटड ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम नाम दिया गया है। योजना के तहत 84 चौराहों पर 1065 मल्टीडाइमेंशनल सीसीटीवी कैमरे लगाए जा रहे है। पहले फेज में 25 चौराहों और तिराहे पर इसका ट्रायल देखा जा रहा है। बुधवार को प्राधिकरण के अपर मुख्य कार्यपालक अधिकारी मानवेंद्र सिंह कमांड कंट्रोल रूम गए और वहां अधिकारियों के साथ बैठक करते हुए आईटीएमएस के बारे में जानकारी ली।

एनटीसी के डीजीएम एसपी सिंह ने बताया कि आईटीएमएस ट्रायल फेज में किया जा रहा है। जून से इसे औपचारिक रूप शुरू कर दिया जाएगा। पहले फेज में आम्रपाली गोलचक्कर, ओखला बर्ड मेट्रो स्टेशन, औषधी पार्क, एचसीएल, मयूर स्कूल, ओल्ड एचटीएमएस, माहामाया फ्लाईओवर के नीचे, बोटेनिकल गार्डन, डिग्री कॉलेज चौराहा, 31-25 चौराहा, सिटी सेंटर , सेक्टर-76, अट्टा पीर, सेक्टर-15, हाजीपुर, श्रमिक कुंज, सेक्टर-93,इल्डिको, सेक्टर-91 टी प्वाइंट और पाथवे समैत 25 चौराहों पर इसे देखा जा रहा है। एसीईओ समक्ष इसका लाइव डेमो भी दिखाया गया। उन्होंने संबंधिति अधिकारियों को दिशा निर्देश भी दिए।

सीसीटीवी कैमरों की मदद से चलेगा आईटीएमएस

आईटीएमएस योजना के लिए शहर में 76 पोल्स लगाए जा रहे है। इसमे चार भुजा वाले 272 केंटीलीवर, 20 गेंट्री , 102 जंक्शन बाक्स व 273 स्मार्ट जंक्शन बाक्स लगाए जा रहे है। इसके अलावा 150 एडाप्टिव ट्रैफिक कंट्रोल सिस्टम व 22 साइन बोर्ड लगाए जा रहे है। इसके लिए 106 किमी ड्रक्ट का काम पूरा किया जा चुका है वही, 60 किमी फाइबर का काम पूरा हो चुका है।

चार प्रकार के लगाए गए है कैमरे

अपराध नियंत्रण, यातायात नियंत्रण व आपदा में आवश्यक दिशा निर्देश देने के लिए चार प्रकार के कैमरे लगाए जाएंगे। इसमें 693 ऑटोमेटिक नंबर प्लेट रीडर (एएनपीआर) कैमरे, 278 फिक्स्ड कैमरें, 76 पैंटेल्ड जूम (पीटीजेड) कैमरे व 18 स्पीड डिटेक्शन कैमरा है। इन सभी को कंट्रोल रूम से आपरेट किया जाएगा। इसका काम पूरा हो चुका है।

Comments are closed.