राष्ट्रीय दलित प्रेरणा स्थल में ढकी गई बसपा सुप्रीमो मायावती की मूर्ति

2012 में हुए विधानसभा चुनावों में पहली बार राष्ट्रीय दलित प्रेरणा स्थल में बने हाथियों और मयावती की मूर्तियों को ढका गया था। 

अभिषेक ब्याहुत 

नोएडा: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में इस बार मुकाबला बेहद दिलचस्प है। इस बार भी हालांकि माडल कोर्ट आफ कंडक्ट के तहत बसपा सुप्रीमो की मूर्ति को कवर दिया गया है। वहीं, यहा लगे हाथियों को नहीं ढका गया है। बता दे 2012 में हुए विधानसभा चुनावों में पहली बार राष्ट्रीय दलित प्रेरणा स्थल में बने हाथियों और मयावती की मूर्तियों को ढका गया था।
विधानसभा चुनावों में सभी दल एक दूसरे को मात देने के लिए चुनावी मैदान में कड़ा संघर्ष कर रहे हैं लेकिन सबसे बड़ी बात यह है कि पिछली बार की तरफ इस बार बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष और उनकी सरकार की तरफ से बनाए गए स्मारकों में लगे उनकी पार्टी के चुनाव चिन्ह हाथियों को नहीं ढका जाएगा। मंगलवार को एडीएम वित्त के आदेश पर माडल कोर्ट आफ कंडक्ट (एमसीसी) के प्रभारी एडीएम (ई) नितिन ने नोएडा प्राधिकरण को राष्ट्रीय दलित प्रेरणा स्थल में लगी बसपा सुप्रीमो मायावती की दोनों मूर्ति को कवर करने को कहा। इसके लिए पूरी टीम राष्ट्रीय दलित प्रेरणा स्थल पर पहुंची थी, लेकिन मूर्ति कवर करने के लिए पालिथिन नई नहीं होने पर बिना कवर किए ही टीम वापस लौट आई थी।
मंगलवार देर रात ढक दी गई मूर्तियां
राष्ट्रीय दलित प्रेरणा स्थल में लगी मायावती की मूर्तियों का मंगलवार देर रात ढक दिया गया। चुनाव के बाद ही अब इन मूर्तियों से कवर को हटाया जाएगा।
राष्ट्रीय दलित प्रेरणा स्थल ऐंड ग्रीन गार्डन
एरिया- 80 एकड़
लागत- 685 करोड़ रुपये

Comments are closed.