रॉकेट्री बनाम ओम : सिल्वर स्क्रीन पर होगी दो वैज्ञानिकों की भिड़ंत, शुक्रवार करेगा अंत

-आर माधवन की रॉकेट्री और कपिल की ओम निर्देशन के क्षेत्र में हैं डेब्यू फिल्म

नई दिल्ली। बॉलीवुड अभिनेता आर. माधवन की फिल्म रॉकेट्री: द नांबी इफेक्ट’ और अभिनेता आदित्य रायकपूर की फिल्म ‘राष्ट्र कवच ओम’ शुक्रवार, एक जुलाई को एक साथ बड़े पर्दे पर रिलीज हो रही हैं। दोनों ही फिल्में वैज्ञानिकों पर आधारित हैं। इनमें से फिल्म एक सच्ची घटना पर तो दूसरी फिल्म काल्पनिक कहानी पर आधारित है। विगत में एक ही डेट पर सिनेमाघरों में रिलीज होने वाली कई फिल्में हिट रहीं हैं तो कई फिल्में चल नही पाईं हैं। अब देखना ये है कि बड़े पर्दे पर रॉकेट्री और ओम की भिड़ंत को दर्शकों से कैसा रिस्पांस मिलता है?

दरअसल, आर माधवन की ‘रॉकेट्री: द नांबी इफेक्ट’ और आदित्य रॉय कपूर की फिल्म ‘राष्ट्र कवच ओम’ में समानता ये है कि दोनों की कहानी भारतीय वैज्ञानिक के इर्द गिर्द बुनी गई है। रॉकेट्री में माधवन मशहूर वैज्ञानिक नांबी नारायण की भूमिका में हैं जबकि आदित्य की फिल्म में भी एक वैज्ञानिक का किरदार है जिसे जैकी श्रॉफ निभा रहे हैं। जहां माधवन की फिल्म सच्ची घटनाओं पर आधारित है तो वहीं आदित्य की फिल्म सुपर हीरो टाइप है जो पूरी तरह से काल्पनिक कहानी पर आधारित है।

एक जुलाई को रिलीज होने वाली दोनों फिल्मों की यूं तो टारगेट ऑडियंस काफी अलग है लेकिन फिर भी अगर दोनों की तुलना करें तो ‘रॉकेट्री’ ‘राष्ट्र कवच ओम’ पर भारी पड़ सकती है। इसकी दो वजह है। पहली वजह माधवन जैसे संजीदा अभिनेता जो शानदार कहानी के आधार पर फिल्मों का चयन करते हैं और दूसरी ये कि इस फिल्म में कई बड़े सितारों की मौजूदगी इसे निर्णायक बढ़त दिला सकती है। हालांकि, आदित्य की फिल्म में भी वो सारे मसाले मौजूद है जो किसी भी फिल्म को हिट बनाने का दम रखते हैं।

हालांकि, माधवन की फिल्म रिलीज से पहले ही काफी सुर्खियां बटोर चुकी है और यह देश ही नहीं विदेश में भी झंडे गाड़ चुकी है। कान फिल्म फेस्टिवल में स्क्रीनिंग के बाद इस फिल्म के लिए लोगों ने खड़े होकर तालियां बजाई जो एक बड़ी उपलब्धि है। इस फिल्म से माधवन निर्देशन की दुनिया में भी कदम रख रहे हैं। वहीं, राष्ट्र कवच ओम का निर्देशन कपिल वर्मा ने किया है। कपिल इससे पहले कई फिल्मों में बतौर सहायक काम कर चुके हैं। यह उनकी भी डेब्यू फिल्म है।

Comments are closed.