सफेद दाग कोई लाईलाज बीमारी नही, इसका ईलाज संभव : डॉ. बर्मन

-इंडियन एसोसिएशन ऑफ डर्मटॉलॉजी वेनेरोलॉजी एंड लेप्रोलॉजी ने शनिवार को मनाया वर्ल्ड विटलिगो डे

नई दिल्ली। इंडियन एसोसिएशन ऑफ डर्मेटोलॉजी एंड वेनेरोलॉजी एंड लेप्रसी (IADVL) की दिल्ली शाखा ने शनिवार, 25 जून को वर्ल्ड विटलिगो दिवस मनाया। इस अवसर पर मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज (MAMC) दिल्ली के चर्म रोग विभाग के निदेशक प्रोफेसर और IADVL के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष डॉ. कृष्ण देब बर्मन ने बताया कि इस साल की थीम “सफेद दाग के साथ जीना सीखें’ विषय को बनाया गया है ताकि इस बीमारी को लेकर समाज में जागरूकता लाने के साथ तमाम भ्रांतियों को भी दूर किया जा सके।

प्रोफेसर बर्मन ने कहा कि सफ़ेद दाग छूने से नहीं फैलते, शरीर मे मेलानिन ना बनने पर सफ़ेद दाग हो जाते हैं। इस संबंध में यह जानना सबसे ज़रूरी है कि ये आपके शारीरिक या मानसिक स्वास्थ्य पर कोई प्रभाव नहीं डालता। सफ़ेद दाग से पीड़ित व्यक्ति एक सामान्य इंसान की तरह ही ज़िंदगी में हर काम कर सकने में सक्षम होता है।

डॉ. बर्मन ने बताया कि भारत में ही कई डॉक्टर, अभिनेता, अभिनेत्री और नेता न सिर्फ सफ़ेद दाग से पीड़ित हैं। बल्कि वह गर्व से अपनी ज़िंदगी भी जी रहे हैं। लिहाजा, एक जिम्मेदार नागरिक होने के नाते हमारा कर्तव्य बनता है कि हम सफ़ेद दाग से पीड़ित लोगों को बिना भेदभाव और खुले दिल के साथ अपनाएं। इस बीमारी से पीड़ित लोगों का साथ दें। उन्होंने कहा कि विटलिगो (सफ़ेद दाग) कोई लाईलाज बीमारी नहीं है। इसका इलाज दवाइयों व सर्जरी द्वारा सम्भव है।

Comments are closed.