शिवपाल की गिरफ्तारी के विरोध में जौनपुर में प्रसपा ने किया प्रदर्शन 

-लखीमपुर खीरी जिले की घटना के विरोध में प्रगतिशील समाजवादी पार्टी ने कलेक्टरेट को सौंपा ज्ञापन

जौनपुर, (प्रणय तिवारी)। लखीमपुर खीरी जिले में किसानों की हुई मौत और शिवपाल सिंह यादव की गिरफ्तारी के विरोध में सोमवार को प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (प्रसपा) के कार्यकर्ताओं ने कलेक्ट्रेट परिसर में नारेबाजी कर जोरदार प्रदर्शन किया। पार्टी जिलाध्यक्ष प्रभानंद यादव के नेतृत्व में मौजूद कार्यकर्ताओं ने अपने राष्ट्रीय अध्यक्ष पूर्व मंत्री शिवपाल सिंह यादव की गिरफ्तारी को भी मुद्दा बनाया।

कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए जिला अध्यक्ष यादव ने कहा कि लखीमपुर खीरी में शांति पूर्ण ढंग से धरना दे रहे किसानों पर पुलिस प्रशासन ने जिस बर्बरता का व्यवहार किया है, वह बेहद ही निंदनीय है। हमारी पार्टी इस घटना की कड़ी निंदा करती है और प्रदेश के महामहिम से मांग करती है कि इस सरकार को बर्खास्त किया जाए। वहीं, सांस्कृतिक प्रकोष्ठ की प्रदेश अध्यक्ष व पूर्व मंत्री संगीता यादव ने कहा कि प्रदेश की कानून व्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त हो चुकी है। सरकार किसानों पर इतना जुल्म ढा रही है की उसकी अब निंदा भी करना मुश्किल हो गया है। क्योंकि सरकार के खिलाफ जो आवाज उठाता है उसे जेल में ठूंस दिया जा रहा है।

इस दौरान प्रसपा के सभी वक्ताओं ने मांग की कि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा को बर्खास्त किया जाए और उनके पुत्र को तत्काल गिरफ्तार किया जाए। दोषी पुलिसकर्मियों एवं प्रशासनिक अधिकारियों के विरुद्ध कठोर कार्यवाही की जाए। घटना की निष्पक्ष व न्यायिक जांच की जाए। साथ ही मृतकों के परिजनों को एक करोड़ रुपये मुआवजा दिया जाए।

इस अवसर पर प्रगतिशील समाजवादी पार्टी किसान सभा के राष्ट्रीय महासचिव शैलेश कुमार सिंह, राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य छात्र सभा राहुल यादव, अल्पसंख्यक सभा के जिला अध्यक्ष जमाउद्दीन अंसारी, छात्र सभा जिला अध्यक्ष प्रदुम यादव, जिला सचिव अरशद अंसारी , जिला सचिव सलाउद्दीन खान, प्रकोष्ठ सभा के जिला अध्यक्ष अशीष मौर्य, जिला महासचिव राहुल यादव, लालता प्रसाद , राकेश संतोष पाल, मेहंदी हसन , कार्तिक यादव, सुभाष पाल , देवी प्रसाद सेठ, मोहम्मद अशफाक, अनवर हुसैन , मोहम्मद साबिर, फैज अहमद, मोहम्मद सैफ, अब्दुल सलाम व महताब सिद्दीकी प्रमुख जिला महासचिव अन्य मौजूद रहे।

Comments are closed.