सुप्रीम कोर्ट पहुंचा श्रीकृष्ण जन्मभूमि का मामला, SIT से जांच कराने की मांग

भगवान की जन्‍मभूमि को लेकर देश में विवाद रुकने का नाम ही नहीं ले रहा है.

भगवान की जन्‍मभूमि को लेकर देश में विवाद रुकने का नाम ही नहीं ले रहा है. अयोध्‍या में श्री रामजन्‍म भूमि (Ram Janmabhoomi) से शुरू हुआ विवाद अब मथुरा के श्री कृष्ण जन्मभूमि (Sri Krishna Janmabhoomi) तक पहुंच गया है. बता दें कि श्रीकृष्ण जन्मभूमि का मामला अब सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में पहुंच गया है. सुप्रीम कोर्ट में इस मामले में एक याचिका दाखिल हुई है. जिसमें समझौते के जरिए कृष्ण जन्म भूमि को मुसलमानों को देने को चुनौती दी गई है.

याचिका में कहा गया है कि कृष्ण जन्मभूमि ट्रस्ट की संपत्ति हिंदुओं के साथ धोखा करके बिना किसी कानूनी अधिकार के अनधिकृत रूप से समझौता करके शाही ईदगाह को दे दी गई जो कि गलत है. कोर्ट ये घोषित करे कि 12 अगस्त, 1968 को श्रीकृष्ण जन्म सेवा संस्थान की ओर से शाही ईदगाह के साथ किया गया समझौता बिना क्षेत्राधिकार के किया गया था, इसलिए किसी पर भी वह बाध्यकारी नहीं है.

याचिका में ये मांग की गई है कि बिना किसी अधिकार के श्रीकृष्ण सेवा संस्थान द्वारा कृष्ण जन्मभूमि और ट्रस्ट की संपत्ति को समझौते के जरिए मुसलमानों को दिए जाने और हिंदुओं से धोखा किए जाने की एसआईटी से जांच कराई जाए. आइपीसी की विभिन्न धाराओं में सेवा संस्थान के सदस्यों के खिलाफ मुकदमा चलाया जाए.

 

Leave A Reply