तबलीगी जमात के सदस्यों के संपर्क में आए 9000 लोगों की पहचान, 1306 विदेशी भी चिन्हित

-जमात के सदस्यों से जुड़े 400 नए कोविड मामले आए सामने, आंकड़े बढ़ने की आशंका 

नई दिल्ली, 2 अप्रैल(TSN)। कोरोना वायरस डिजीज के संक्रमण में तेजी के चलते जहां देश में 1965 मामले पॉजिटिव पाए गए हैं। वहीं, 400 से ज्यादा पॉजिटिव मामलों के पीछे इस्लामी संस्था तबलीगी जमात के सदस्य (कोरोना संदिग्ध) पाए गए हैं जिनके चलते पॉजिटिव मामलों की संख्या में जबर्दस्त बढ़ोत्तरी होने की संभावना जताई जा रही है।
वहीं, गृह मंत्रालय ने बताया कि देशभर में अबतक तबलीगी जमात के 9000 लोगों की पहचान की जा चुकी है। इनमें 1306 विदेशी भी शामिल हैं। इन सभी विदेशियों के वीजा की जांच चल रही है। दिल्ली में तबलीगी जमात के लोगों की वजह से कोरोना के 47 मामले सामने आए हैं। दिल्ली में तबलीगी जमात के 2000 लोगों को चिन्हित किया गया है। इनमें से 1804 लोगों को शहर के अलग अलग क्षेत्र के क्वारंटाइन सेंटर मे रखा गया है औऱ कोरोना के लक्षण वाले 334 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
यह जानकारी केंद्रीय स्वास्थ्य एंव परिवार कल्याण मंत्रालय, केंद्रीय गृह मंत्रालय और भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) की संयुक्त प्रेसवार्ता में बृहस्पतिवार को दी गई। गौरतलब है कि देश में तेजी से फैल रहे कोरोना वायरस से तबलीगी जमात का कनेक्शन होने का खुलासा सबसे पहले तेलंगाना में हुआ जहां 6 लोगों की मौत संक्रमण से हो गई। वहां से यह पूरे देश में फैला। असम में इस जमात के सदस्यों की वजह से कोरोना के 16 मामले सामने आए हैं। वहीं, जम्मू कश्मीर से 22, राजस्थान से 11, अंडमान व निकोबार से 9, पुदुचेरी से 2, तेलंगाना से 33, आंध्रप्रदेश से 67 और तमिलनाडु से 173 मामले तबलीगी जमात से जुड़े पाए गए हैं।
लॉकलाउन का उल्लंघन करने वालों पर आईपीसी के तहत होगी कार्रवाई
केंद्रीय गृह मंत्रालय की संयुक्त सचिव पुण्य सलिला श्रीवास्तव ने बताया कि गृह सचिव ने सभी राज्यों व केन्द्र शासित प्रदेशों के सचिवों से कहा कि लॉकडाउन को सख्ती से पालन कराया जाए। इस वैश्विक रोग आपदा से निपटने के लिए जरूरी है कि इस लॉकडाउन का सही तरीके से पालन हो। अगर कोई इस कानून का उल्लंघन करता है तो उस पर भारतीय दंड संहिता के तहत कार्रवाई करें। इस बारे में राज्यों को आईपीसी की धाराओं से लोगों को अवगत कराना चाहिए।
कोविड को लेकर गलत खबरों और अफवाहों से बचें 
गृह मंत्रालय की सचिव ने कहा कि कोविड से जंग के खिलाफ सोशल मीडिया पर चल रही फेक न्यूज और अफवाहें एक बड़ा रोड़ा है, इसलिए गृह मंत्रालय ने सूचना व प्रसारण मंत्रालय को इसको लेकर कदम उठाने को कहा। मंत्रालय ने इसके लिए वेबपोर्टल की शुरुआत भी की है। अगर लोगों को कोविड के बारे में कोई भी तथ्यों की पुष्टि करनी है तो वे pibfactcheck@gmail.com पर मेल कर सकते हैं। इसी तरह से स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी तकनीकी जानकारी प्राप्त करने के लिए technicalquery.covid19@gov.in पर मेल कर सकते है।
धारावी के सभी लोगों की होगी जांच
स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि मुंबई के स्लम क्षेत्र धारावी में कोरोना का एक प़ॉजिटिव मामले सामने आया है और यहां एक मौत भी दर्ज की गई है। इसलिए इस पूरे क्षेत्र के करीब 310 फ्लैट्स और 90 दूकानें सील कर दी गई हैं। यहां के सभी लोगों के सैंपल लेने का काम शुरू कर दिया गया है। इस मामले में दोषियों के खिलाफ कार्रवाई भी सुनिश्चित की जाएगी।
डेढ़ करोड़ पीपीई और एक करोड़ एन-95 मास्क मंगवा रही है सरकार
पीपीई और मास्क की कमी को मानते हुए संयुक्त सचिव ने कहा कि देश में इसकी कमी थी लेकिन पिछले कई दिनों से इनकी कमी को पूरा करने के लिए डेढ़ करोड़ पीपीई( पर्सनल प्रोटेक्टिव एक्विपमेंट) और एक करोड़ एन 95 मास्क खरीदें जा रहे हैं। उपलब्धता और जरुरत के आधार पर राज्यों को समय पर पीपीई और मास्क दिए भी जा रहे हैं। इसके साथ ही किडनी संबंधित मरीजों, बुजुर्गों और बच्चों के लिए परामर्श जारी किया गया है जो केंद्रीय स्वास्थ्य एंव परिवार कल्याण मंत्रालय की वेबसाइट पर मौजूद है।
Leave A Reply